भारतीय पनडुब्बी में आग, 18 फंसे

  • 14 अगस्त 2013
आईएनएस सिंधुरक्षक
Image caption आईएनएस सिंधुरक्षक को हाल ही में रूस में उन्नत बनाया गया था. (फ़ोटो: रॉयटर्स)

मुंबई में मंगलवार देर रात भारतीय नौसेना की एक पनडुब्बी में धमाका हुआ. धमाके के बाद पनडुब्बी डूबने लगी. इसमें कुछ नौसैनिकों के मारे जाने और कुछ के फंसे होने की आशंका है. पनडुब्बी को निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं.

रक्षा मंत्री एके एंटनी ने कहा कि इस घटना में मारे गए लोगों के प्रति उन्हें दुख है. उन्होंने कहा कि घटनास्थल का दौरा करने के लिए वे मुंबई जाएंगे.

आईएनएस सिंधुरक्षक नाम की इस पनडुब्बी में धमाके के बाद आग लग गई. कई नौसैनिक अपनी आग से बचाने के लिए पानी में कूद गए.

भारतीय नौसेना ने एक बयान में घटना की पुष्टि करते हुए कहा है कि पनडुब्बी और उसमें फंसे नौसैनिकों को निकालने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं.

(भारतीय नौसेना का बयान)

मुंबई से बीबीसी संवाददाता मधु पाल के मुताबिक अभी यह बात साफ नहीं हुई है कि धमाका मशीनी गड़बड़ी के कारण हुआ या फिर इसकी वजह कुछ और है. अमूमन इस पनडुब्बी में करीब 100 नौसैनिक काम करते है लेकिन रात के समय इसमें करीब 50 नौसैनिक रहते हैं.

संवाददाता का कहना है कि धमाके के बाद पनडुब्बी डूबने लगी. इसके साथ खड़ी एक अन्य पनडुब्बी आईएनएस सिंधुरत्न को भी मामूली नुकसान पहुंचा है.

इस घटना में कई नौसैनिक घायल भी हो गए जिन्हें कोलाबा स्थित नौसैनिक अस्पताल आईएनएचएस अश्विनी ले जाया गया है.

कारण

आग और धमाके के कारणों, पनडुब्बी को हुए नुकसान एवं हताहतों की संख्या के बारे में अभी कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है.

आग बुझाने में मुंबई दमकल विभाग और मुंबई पोर्ट ट्रस्ट की कम से कम 16 गाड़ियों की मदद ली गई. आग से उठने वाले धुंए को दक्षिण मुंबई के कई इलाक़ों में साफ देखा जा सकता था.

दमकल विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि तड़के क़रीब तीन बजे आग पर काबू पा लिया गया.

अधिकारियों ने बताया कि आग के कारणों की जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

रुसी मीडिया में चर्चा

रूस निर्मित 16 साल पुरानी सिंधुघोष क्लास की इस पनडुब्बी को हाल ही में उन्नत बनाया गया था.

अधिकांश रुसी वेबसाइटों ने सिंधुरक्षक पनडुब्बी में धमाके की खबर को प्रमुखता दी है.

समाचार पत्र ‘वेडोमोस्ती’ ने लिखा है कि हाल ही में ये पनडुब्बी रुस से अपग्रेड होकर भारत वापस आई थी, लेकिन अखबार ने रुस के काम की गुणवत्ता पर कोई सवाल नहीं उठाया है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार