सिंधुरक्षक में सवार नौसैनिकों की सूची जारी

  • 16 अगस्त 2013
नरोत्तम देउरी
Image caption सिंधुरक्षक पर सवार नरोत्तम देउरी असम के लखीमपुर के रहने वाले हैं.

भारतीय नौसेना ने सिंधुरक्षक पनडुब्बी हादसे में लापता अधिकारियों और सैनिकों के नामों की सूची जारी की है. बुधवार तड़के भारतीय नौसेना की पनडुब्बी सिंधुरक्षक धमाके के बाद मुंबई तट पर डूब गई थी.

धमाके के वक़्त सिंधुरक्षक में 18 नौसैनिक सवार थे जिनमें तीन अधिकारी और 15 नाविक थे.

अधिकारियों में लेफ़्टिनेंट कोमोडोर निखिलेश पाल, लेफ़्टिनेंट कोमोडोर आलोक कुमार और लेफ़्टिनेंट कोमोडोर आर वेंकिटराज शामिल थे.

Image caption नौसैनिक अतुल शर्मा हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर से हैं.

सैनिकों में संजीव कुमार, केसी उपाध्याय, टिमोथी सिन्हा, केवल सिंह, सुनील कुमार, दसारी प्रसाद, लीजू लारेंस, राजेश टूटिका, अमित के सिंह, अतुल शर्मा, विकास ई, नरोत्तम देउरी, मलय हलदर, विष्णु वी और सीताराम बडापल्ली शामिल हैं.

आसान नहीं रही पनडुब्बियों की राह

भारतीय रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी वक्तव्य के मुताबिक़ फंसे नौसैनिकों को अभी तक देखा या ढूँढा नहीं जा सका है. मंत्रालय ने कहा, "पनडुब्बी के भीतर पानी भरा हुआ है जिसके कारण गोताख़ोर भीतर देख नहीं पा रहे हैं. साथ ही अंदर बेहद सीमित जगह है और घटना के कारण उपकरण अपनी जगह से हिल गए हैं."

Image caption नौसैनिक टिमोथी सिन्हा 29 साल के हैं और असम के सिलचर से हैं.

मंत्रालय ने कहा कि धमाके से उपजी गर्मी के कारण पनडुब्बी का कुछ हिस्सा टूट-फूट गया है. प्रवक्ता के मुताबिक़ उनको तलाशने का अभियान जारी है.

भारत के स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस घटना पर दुख प्रकट करते हुए कहा, "हमें इस बात से बहुत तकलीफ़ है कि बुधवार को एक दुर्घटना में हमने अपनी पनडुब्बी सिंधुरक्षक को खो दिया."

नौसेना के लिए नई दुश्वारियां पैदा हो सकती हैं

सिंधुरक्षक की हाल ही में रूस के जहाज़ बनाने वाले कारख़ाने ज़्वेजदोच्का में मध्यम स्तर की मरम्मत की गई थी और उसे अधिक उन्नत बनाया गया था.

भारत ने 1986 से 2000 के बीच किलो क्लास की ऐसी दस पनडुब्बियां रूस से हासिल की थी.

आईएनएस सिंधुरक्षक के बैट्री कम्पार्टमेंट में फरवरी 2010 में आग लगी थी जिसमें एक नौसैनिक मारा गया था. तब यह पनडुब्बी विशाखापट्टनम में नौसेना गोदी में तैनात थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार