फिल्मों की गुणवत्ता पर व्यवसाय हावी है?

  • 16 अगस्त 2013

किसी भी फिल्म के रिलीज़ होने से पहले ही आजकल अकसर इस बात पर बहस शुरु हो जाती है कि क्या ये फ़िल्म 100 करोड़ कमा पाएगी -चाहे वो चेन्नई एक्सप्रेस हो, दबंग हो, भाग मिल्खा भाग हो या और कोई फिल्म.

ऐसे में कई लोग सवाल उठाने लगे हैं कि क्या फ़िल्म की गुणवत्ता के बजाए उसका व्यवसाय उस पर हावी होने लगा है.

वहीं दूसरा पक्ष ये भी है कि अगर पहले के मुकाबले फ़िल्में का बजट बड़ा और कमाई ज़्यादा हो रही है तो इसमें फ़िल्म उद्योग को फ़ायदा ही होगा और ये पैसा बेहतर फिल्में बनाने में लग पाएगा.

बीबीसी इंडिया बोल में इस शनिवार 17 अगस्त शाम साढे़ सात बजे इसी विषय पर होगी चर्चा.

सीधे कार्यक्रम में शामिल होने के लिए मुफ़्त फोन करे 1800-11-7000 या फिर 1800 102 7001 पर. फेसबुक पन्ने पर भी आप अपनी राय व्यक्त कर सकते हैं.

अगर आप चाहतें हैं कि बीबीसी आपको इस कार्यक्रम में शामिल करें तो अपना फोन नम्बर इस पते पर ईमेल करें bbchindi.indiabol@gmail.com <mailto:bbchindi.indiabol@gmail.com>

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक पेज पर जाकर भी अपनी राय रख सकते हैं. साथ ही ट्विटर पर भी आप हमें फॉलो कर सकते हैं)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए