नक्सलियों की मदद के आरोप में जेएनयू छात्र गिरफ्तार

  • 24 अगस्त 2013
हेम मिश्रा जेएनयू

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली ज़िले में पुलिस ने दिल्ली के प्रसिद्ध जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय यानी जेएनयू के एक छात्र को गिरफ्तार किया है.

महाराष्ट्र पुलिस का कहना है कि उसने शुक्रवार की सुबह गढ़चिरौली से जेएनयू के छात्र हेम मिश्रा को नक्सलियों की मदद करने के आरोप में गिरफ्तार किया है.

हेम मिश्रा के अलावा दो और लोगों को गढ़चिरौली के अहेरी बस स्टॉप से गिरफ्तार किया गया.

हेम मिश्रा जेएनयू के स्कूल ऑफ लैंग्वेजेज़ में चीनी भाषा के छात्र हैं.

Image caption हेम मिश्रा दिल्ली के जेएनयू में स्कूल ऑफ लैंग्वेजेज़ के छात्र हैं

पुलिस के मुताबिक हेम मिश्रा के साथ जिन दो लोगों को गिरफ्तार किया है वो पांडु नरोटे और महेश तिर्की नाम के दो स्थानीय आदिवासी हैं.

पुलिस ने शुक्रवार को तीनों अभियुक्तों को अदालत में पेश किया. अदालत ने तीनों को 10 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया है.

'गलत आरोप का शक'

गढ़चिरौली के डीआईजी रवींद्र कदम ने बीबीसी से कहा, "तीनों पर माओवादी गतिविधियों में मदद करने का आरोप है. इनमें से हेम मिश्रा जेएनयू के छात्र हैं और एक व्यक्ति माओवादी नेता नर्मदा को सामान पहुंचाने का काम करता पाया गया है. इन्होंने क्या डिलीवर किया और कहां डिलीवर किया ये जांच का विषय है."

वहीं हेम मिश्रा की गिरफ्तारी के खिलाफ जेएनयू के उनके साथी अभियान चला रहे हैं.

उन्होंने सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर हेम मिश्रा के वॉल पर भी लिखा है कि हेम मिश्रा निर्दोष हैं, उन्हें झूठे आरोप में फंसाया गया है.

हेम मिश्रा के एक साथी रोना विल्सन से जब बीबीसी ने बात की तो उन्होंने कहा, , "हमें शक है कि हेम को कहीं और से गिरफ्तार किया गया, उन पर गलत आरोप लगाने की भी कोशिश की जा रही है. जेएनयू में हेम की पहचान एक संस्कृति कर्मी की है."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार