नाल जो करती है घोड़े की किस्मत ख़राब?

  • 29 सितंबर 2013
काला घोड़ा, नाल, सौभाग्यशाली, अंधविश्वास

भारत में आम धारणा है कि काले घोड़े सौभाग्यशाली होते हैं. अगर घर के दरवाज़े पर उसकी नाल लटकाई जाए तो इंसान ख़ुशनसीब बन सकता है. इस विश्वास में चाहे दम हो या न हो, मगर इसकी वजह से बहुत से काले घोड़ों की ज़िंदगी नर्क बन गई है.

बार-बार नाल निकालने और लगाने की वजह से घोड़ों के सुम में घाव हो जाते हैं और कभी-कभी वो लंगड़े तक हो जाते हैं.

काले घोड़ों की तलाश में हम राजधानी दिल्ली के पूर्वी इलाक़े गौतमपुरी पहुंचे, जहां एक तबेले में हमें एक साथ दसियों काले घोड़े दिखाई दिए. यहां हमारी मुलाकात हुई काले घोड़े के मालिक बड़ा से, जो अपने घोड़े पर पुणे के आगे सतारा तक हो आए हैं.

वे बताते हैं कि एक दिन में वे चार नाल तक बेच देते हैं. नाल खरीदने वाले ‘500 भी दे देता है, 50 भी दे देता है. 100 भी दे देता है. हम चार नाल जेब में रखते हैं. चार नाल बिक जाती हैं, तो नई लगा देते हैं. ग्राहक को तो पैर के सामने ही निकालकर देंगे. जब ग्राहक चला जाएगा तो हम चार नाल ठोकेंगे और सीधे अपने घर आ जाएंगे. फिर दोबारा ले जाएंगे.’

Image caption घोड़ेवाले राजू के मुताबिक़ लोग उन्हें नाल के एवज में मोटा पैसा देते हैं तो वो कुबूल कर लेते हैं.

बड़ा ने इस बात से इनकार किया कि बार-बार नाल बदलने से घोड़े का सुम खराब होता है. उनके मुताबिक़ घोड़े के सुम हमारे नाखून की तरह हैं, ‘चाहे जितना काट लो. बढ़ता रहेगा तो दुख देगा. हम पर रेत छुरी सब है, उससे सेट कर लेते हैं.’

बड़ा के मुताबिक़ लोग उनसे अपने फ़ायदे के लिए नाल लेते हैं.

‘इंसान शनि के लिए लेता है, कोई कुछ करा देता है, इसके लिए लेता है. नजर नहीं लगती, बच्चा नहीं डरता. रोज़गार के भी काम आती है. बाबा लोग यही कहते हैं कि ये काम आती है. तभी तो लोग ले रहे हैं.’

देखिए - फ़्रांस में घुड़दौड़ का अंदाज़

एक नाल 500 रुपए में!

बड़ा के अलावा गौतमपुरी में हमें कई घोड़े वाले मिले, जिनकी रोज़ी-रोटी लोगों के विश्वास के भरोसे चलती है कि घोड़े की नाल सौभाग्य का प्रतीक है.

यहां मौजूद राजू घोड़ेवाले को अपने काले घोड़ों से बहुत प्यार है. उनके घर की रोज़ी-रोटी इन्हीं घोड़ों पर मुनहसर है. राजू ने भी कुबूल किया कि लोगों के विश्वास के चलते वे भी कभी-कभी लालच में आ जाते हैं.

राजू कहते हैं, ‘आदमी हमसे नाल लेता है तो वो अपने भरोसे लेता है और हम अपने भरोसे देते हैं. नाल तो वही काम आती है, जो अपने आप गिर जाती है. मगर आदमी पैसे के ज़ोर पर निकलवा लेता है. लालच देते हैं लोग. अगर कोई मुझे कहे कि 200 रुपए ले और नाल दे दे, तो हम क्या करेंगे. ग़रीब आदमी हैं, लालच में आ जाते हैं.’

Image caption घोड़ेवाले शादी-ब्याह का काम करते हैं पर इनमें सफ़ेद घोड़ों का इस्तेमाल होता है.

हालांकि राजू नाल के सौभाग्यशाली होने पर यक़ीन नहीं करते.

‘आज के टाइम में आदमी सोचता है, हाथ-पैर न हिलाऊं, बस घर बैठे पैसा आ जाए. ये सब मनघड़ंत बातें हैं. आदमी सोचता है नाल लेने से मैं अमीर हो जाऊंगा, मुझे मौत नहीं आएगी या मैं लखपति हो जाऊंगा. नाल से कुछ नहीं होता. आदमी की सोच होती है.’

सीलमपुर के रहने वाले मोइनुद्दीन के पूर्वज घोड़ों का काम करते थे. अब वो यह काम छोड़ चुके हैं.

मोइनुद्दीन के मुताबिक़ ‘कोई न कोई चाहने वाला मिल जाता है और इन्हें रोक कर मांगता है. 50 का 100 का, 10-20 का. ये लोग खुद बोली नहीं लगाते कि नाल ले लो, नाल ले लो. ऐसा नहीं करते. कमी बस यही है बार-बार नाल उखड़ने लगाने से फर्क तो पड़ता है पैर पर, लेकिन ये उसका ध्यान भी रखते हैं.’

पैरों में घाव

असल में जब दिल्ली में बग्घियां और तांगे बंद हुए तो घोड़ेवालों ने अपने घोड़े शादी-ब्याह में लगाने शुरू कर दिए. पर यह काम पूरे साल नहीं चलता.

Image caption घोड़ों की नाल बार-बार निकालने की वजह से घोड़ों के पैर में घाव हो जाते हैं.

इसलिए उन्होंने घोड़ों की नाल को कमाई का आधार बना लिया.

मिस्त्री बताते हैं कि नाल निकालने और लगाने में अगर सावधानी न बरती तो घोड़ा लंगड़ा हो सकता है.

ग़ाज़ियाबाद के लोनी रोड पर हमारी मुलाक़ात मोहम्मद यासीन से हुई जिन्होंने बताया कि वो पुरानी कील या नाल निकालने के बाद छुरी से सुम को साफ़ करते हैं.

इसके बाद वह नई नाल लगाते हैं और फिर उसमें कील ठोकते हैं.

गुड़गांव के पटौदी में पशु कल्याण संस्था फ्रेंडिकोस के अस्तबल में आपको ऐसे कई घोड़े मिलेंगे जिनके पैरों में घाव हैं और जिनका इलाज चल रहा है.

यहां मौजूद डॉक्टर राजेश कुमार साह ने बताया, ‘नाल लगाते हैं, तो वहां पर मांस से हिस्से में कभी-कभी खाल कट जाती है और घोड़े को ज़बर्दस्त दर्द होता है. यह हिस्सा काफ़ी संवेदनशील होता है. ऐसे में कुछ भी कड़ी चीज़ लगने से जानवर के पैरों को नुकसान पहुंचता है.

'संज्ञेय अपराध बनाएं'

Image caption मिस्त्री बताते हैं कि नाल निकालने और लगाने में अगर सावधानी न बरती तो घोड़ा लंगड़ा हो सकता है.

पशु कल्याण के लिए काम करने वाले पीएफ़ए हरियाणा के अध्यक्ष नरेश कादियान नाल की ख़रीद-फ़रोख़्त पर सख़्ती के हिमायती हैं.

‘इसे रोकने के लिए पशु क्रूरता निवारण अधिनियम बनाया गया था. मगर यह संज्ञेय अपराध नहीं, इसलिए इसे ठीक से लागू नहीं किया जा रहा है. इसमें सिर्फ़ 10 रुपए का जुर्माना है.’

Image caption द ब्रूक इंडिया का कहना है कि लोगों के विश्वास के मामले में कोई क़ानून नहीं बनाया जा सकता.

कादियान के मुताबिक घोड़े की नाल ठोकने वाले अवैध रूप से काम कर रहे हैं.

सामान की लदाई या दूसरे कामों में इस्तेमाल होने वाले घोड़ों का मुफ़्त इलाज करने वाली ब्रिटिश संस्था द ब्रूक का इंडिया चैप्टर इसी अंधविश्वास से लड़ रहा है.

द ब्रूक इंडिया के सीईओ लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) एमएल शर्मा का कहना है कि लोगों के विश्वास के मामले में कोई क़ानून नहीं बनाया जा सकता.

सीईओ एमएल शर्मा ने नाल की वजह से घोड़ों को होने वाली मुसीबत से निपटने के लिए अनोखा सुझाव रखा.

‘अगर नाल को किसी एडहेसिव मैटीरियल से पैर के साथ में फिक्स किया जाए और उस नाल को इस्तेमाल करने के बाद उसे बेचा जाए और फिर रीफिक्सिंग की जाए तो शायद उससे घोड़े को बार-बार नाल लगाने-निकालने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी.’

द ब्रूक अपने सुझाव को किस हद तक लागू करा पाती है, यह भविष्य की बात है, पर यह सच है कि सौभाग्य की प्रतीक नाल घोड़ों के लिए दुर्भाग्यशाली साबित हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार