कितना बड़ा है पॉन्टी चड्ढा का कारोबारी साम्राज्य?

  • 3 सितंबर 2013
वेव मॉल मुरादाबाद

भारत का आयकर विभाग अब तक गुरदीप चड्ढा यानी पॉन्टी चड्ढा की संपत्ति का आकलन कर रहा है.

अभी तक पॉन्टी की सभी कंपनियों की जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन कंपनी मामलों के मंत्रालय के पास उपलब्ध जानकारी के मुताबिक 2010-2011 में उनकी पांच कंपनियों की शुद्ध संपत्ति 800 करोड़ रुपए थी.

पॉन्टी चड्ढा की नवंबर 2012 में दक्षिण दिल्ली में उनके फार्महाउस में हत्या कर दी गई थी.

पॉन्टी की हत्या से कुछ महीने पहले ही आयकर विभाग के अधिकारियों ने पॉन्टी चड्ढा और उनके परिवार के कारोबारी ठिकानों पर छापे मारे थे.

हालांकि पॉन्टी चड्ढा के कारोबारी साम्राज्य के बारे में अलग-अलग अनुमान हैं, लेकिन उनकी पूरी कारोबारी संपत्ति के बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं है.

Image caption पॉन्टी चड्ढा की नवंबर 2012 में हत्या कर दी गई थी.

कंपनी मामलों के मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि आयकर विभाग अब भी ये जानकारी जुटा रहा है कि क्या ऐसी भी कंपनियां हैं जिनके बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में पॉन्टी चड्ढा का नाम नहीं है.

वेव इन्फ्राटेक सबसे बड़ी कंपनी

मंत्रालय के रिकॉर्ड के मुताबिक़ चड्ढा ग्रुप की सबसे बड़ी कंपनी वेव इन्फ्राटेक है. वेव इन्फ्राटेक की कुल संपत्ति 1077 करोड़ रुपए है.

चड्ढा ग्रुप के कई रिहायशी और व्यावसायिक रियल एस्टेट प्रोजेक्ट हैं जिनमें वेव इन्फ्राटेक, वेव इंडस्ट्रीज़, वेव बेवरेजेस, एबी शुगर्स और उप्पल-चड्ढा हाईटेक डेवलपर्स शामिल हैं.

पॉन्टी चड्ढा की तीन कंपनियां, एबी मूवीज़, जेसमीन फ्रेशनर्स और चड्ढा इन्फ्रास्ट्रक्चर का अगस्त 2011 में हाईकोर्ट के आदेश के बाद वेव इन्फ्राटेक में विलय हो गया था.

वेव इंडस्ट्रीज़ की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक कंपनी को पॉन्टी चड्ढा के पिता कुलवंत सिंह चड्ढा ने खड़ा किया था लेकिन रजिस्ट्रार दफ़्तर के दस्तावेज़ों के मुताबिक़ वेव ग्रुप ऑफ कंपनीज़ साल 2008 में वजूद में आया.

जहां तक रियल एस्टेट का सवाल है, वेव की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक़ नोएडा में साढ़े तीन लाख स्क्वेयर फ़ीट में फैला सेंटरस्टेज मॉल चड्ढा परिवार की संपत्ति है.

इसके अलावा चड्ढा परिवार के पास वेव इन्फ्राटेक का दिल्ली के राजौरी गार्डन में 25 हज़ार स्क्वेयर फीट का सिनेमाज़ और मुरादाबाद में डेढ़ लाख स्क्वेयर फीट का द वेव मॉल है.

थोक शराब का कारोबार

लुधियाना में 4 लाख 70 हज़ार स्क्वेयर फीट का द वेव मॉल, लखनऊ में 3 लाख 14 हज़ार फीट का शॉपिंग आर्केड और दिल्ली से सटे गाज़ियाबाद के कौशांबी में 32,757 फीट का मॉल पॉन्टी का ही है.

वेव की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक चड्ढा के रियल एस्टेट प्रोजेक्ट में पंजाब के मोहाली में 264 एकड़ की फेयर लेक्स, उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में जीएसआर मूवीज़ और वेव ग्रीन्स, उत्तर प्रदेश में ही प्लमोरिया गार्डन एस्टेट, नोएडा में यूपी टाउनशिप प्राइवेट लिमिटेड और ग्रेटर नोएडा हाईटेक सिटी, उत्तर प्रदेश में उप्पल-चड्ढा हाईटेक डेवलपर्स और कारा टाउन प्लानर्स शामिल हैं.

इसके अलावा उनकी चीनी मिलें और कागज़ की मिलें हैं. चड्ढा ग्रुप के पावर प्लांट और शराब कारखाने भी हैं. चड्ढा परिवार का उत्तर प्रदेश के थोक शराब कारोबार में एकाधिकार है.

इसके अलावा उत्तर प्रदेश के सरकारी रिकॉर्ड कहते हैं कि राज्य के सरकारी स्कूलों में मिड डे मील की आपूर्ति का ठेका पॉन्टी चड्ढा की कंपनी को मिला था. ये ठेका 5 हज़ार करोड़ का था.

हालांकि अब पॉन्टी के बेटे मॉन्टी और उनके छोटे भाई ने पॉन्टी के कारोबार की बागडोर अपने हाथ में ले ली है. उद्योग जगत के जानकारों का मानना है कि इतना बड़ा कारोबार संभालने के लिए उत्तराधिकारियों में भी पॉन्टी जैसी काबिलियत होनी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार