आसाराम की ज़मानत याचिका पर सुनवाई टली

  • 3 सितंबर 2013
Image caption आसाराम के वकीलों की दलील सुनने के बाद अदालत बुधवार को अभियोजन पक्ष की दलील सुनेगी.

यौन दुर्व्यवहार के आरोप में जेल भेजे गए आसाराम बापू की ज़मानत याचिका पर मंगलवार को सुनवाई टल गई.

जोधपुर की एक अदालत में आसाराम की ओर से दाखिल ज़मानत याचिका पर सुनवाई के बाद अदालत बुधवार को अभियोजन पक्ष की दलील सुनेगी.

सोमवार को अदालत ने आसाराम को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

अपने साधक की नाबालिग़ बेटी के साथ यौन दुर्व्यवहार के आरोपों में गिरफ़्तार आसाराम को शनिवार जोधपुर पुलिस ने अपने हिरासत में लिया था.

लेकिन आसाराम के वकील ने कहा है कि आसाराम पर लगे आरोप झूठे हैं.

आसाराम पर आरोप

Image caption सोमवार को जोधपुर की अदालत ने आसाराम को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

आसाराम के समर्थकों का कहना है कि वो उम्रदराज़ है और वह उम्र के इस पड़ाव पर ऐसा जुर्म नहीं कर सकते.

पुलिस ने डॉक्टरों की मदद ली और उनका पुरुषत्व परीक्षण कराया जो सही पाया गया है.

पुलिस ने उनसे पूछा था कि 15 अगस्त की रात आश्रम में क्या हुआ था. जानकारी के मुताबिक़ इस पर आसाराम का जवाब था कि बालिका और उसके माँ-पिता खुद यहाँ आए थे.

पुलिस ने फिर पूछा कि पीड़िता के साथ अकेले में क्या किया? आसाराम ने कहा, "हम साधना कर रहे थे."

जानकारी के मुताबिक आसाराम ने कुबूल किया कि पीड़िता के साथ उन्होंने एक घंटा एकांत में बिताया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार