दिल्ली गैंगरेप मामले में फ़ैसला 10 सितंबर को

  • 3 सितंबर 2013

पिछले साल दिसंबर में हुए दिल्ली गैंगरेप मामले में अदालत का फ़ैसला 10 सितंबर को सुनाया जाएगा. दो अभियुक्तों के वकील एपी सिंह ने बीबीसी से इस बात की पुष्टि की है.

घटना के समय नाबालिग़ रहे एक अभियुक्त को पहले ही तीन साल की सज़ा हो चुकी है.

जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने अपने फ़ैसले में अभियुक्त को बलात्कार और हत्या का दोषी पाया था और तीन साल सुधार गृह में रहने की सज़ा सुनाई थी.

ये घटना पिछले साल दिसंबर की है जब दिल्ली में चलती बस में 23 साल की एक छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार हुआ था. घटना के दिन पीड़ित लड़की अपने मित्र के साथ क़रीब नौ बजे रात को एक निजी बस में चढ़ी थी.

उसी बस में कथित रूप से छह लोगों ने युवती के साथ बर्बर तरीक़े से बलात्कार किया था.

17 दिसंबर को पुलिस ने बस के चालक और तीन अन्य अभियुक्तों को गिरफ़्तार कर लिया था.

बलात्कार की घटना

राजधानी दिल्ली में हुई इस घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था और इसके विरोध में दिल्ली एवं अन्य शहरों में लगभग दो हफ्तों तक प्रदर्शन होते रहे थे. प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि बलात्कार क़ानून को और सख़्त बनाया जाए और पुलिस व्यवस्था में सुधार किए जाएँ. इस मुद्दे पर संसद में भी हंगामा और बहस हुई थी.

पीड़ित छात्रा को बेहतर इलाज के लिए सिंगापुर ले जाया गया जहाँ 29 दिसंबर को उसकी मौत हो गई थी.

एक अभियुक्त राम सिंह इस साल मार्च में तिहाड़ जेल में मृत पाया गया था. राम सिंह का छोटा भाई भी इस केस में अभियुक्त है.

घटना के समय जो अभियुक्त नालाबिग़ था उसे तीन साल की सज़ा को लेकर समाज के एक तबके ने नाराज़गी जताई है हालांकि सरकार ने इस साल सरकार कह दिया था कि जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के तहत किशोर आयु सीमा घटाने का उसका कोई इरादा नहीं है. इस मामले की सुनवाई फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार