पॉन्टी ने कैसे खड़ा किया कारोबारी साम्राज्य

पॉन्टी चडढा, शराब, कारोबार

पॉन्टी चड्ढा जब अपनी 'लैंड क्रूज़र' गाड़ी को एक हाथ से चलाते हुए तेज़ रफ़्तार के साथ दिल्ली के छत्तरपुर स्थित अपने फार्म हॉउस से निकलते तो लोग उनके अंदाज़ की तुलना अरब के लोगों से करते.

वही ठाठ, वही अंदाज़. पॉन्टी चड्ढा ने अपने कारोबार में हमेशा अपने कुनबे यानी अपने भाइयों और भतीजों को ही आगे बढ़ाया.

उनके हर व्यवसाय में उनके भाई और भतीजे ही मुख्य भूमिका में रहे. वो अगर कोई बड़ा ठेका हासिल करते तो उससे जुड़े छोटे-मोटे ठेके उनके भाइयों या भतीजों को ही मिलते थे.

पॉन्टी के साथ-साथ उनके कुनबे ने भी तरक्की की और चड्ढा समूह भी फैलता गया.

भारत के बंटवारे के बाद गुरदीप चड्ढा उर्फ़ पॉन्टी के पिता कुलवंत सिंह चड्ढा ने सबसे पहले उत्तराखंड के रामनगर में अपना पड़ाव डाला. साल 1957 में उनका परिवार पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद आ बसा.

शराब की दुकान

यहीं पर शराब की एक दुकान के सामने कुलवंत सिंह चड्ढा पकौड़े बेचकर अपने परिवार का पेट पालते थे. लेकिन कुछ ही सालों में उन्होंने मुरादाबाद के अमरोहा गेट के पास शराब की दुकान खोल ली.

चड्ढा परिवार के कुछ करीबी कहते हैं कि उस वक़्त भी इस परिवार ने शराब के धंधे में अपने प्रतिद्वंद्वियों को करारी शिकस्त दी थी.

इस धंधे में कुलवंत के भाई हरभजन चड्ढा उनके साझीदार थे.

हरभजन चड्ढा के बेटे गुरजीत ने बीबीसी से बात करते हुए कहा कि शराब का व्यवसाय खड़ा करने में उनके पिता ने कुलवंत सिंह चड्ढा के साथ काफी मेहनत की थी.

बाद में संपत्ति को लेकर दोनों में विवाद हो गया था.

गुरजीत चड्ढा कहते हैं, "ये अलग बात है कि हमारे बीच बंटवारे को लेकर खींचतान चलती रही लेकिन पॉन्टी में एक अलग बात थी जिस वजह से आज चड्ढा समूह ने अपने व्यवसाय को इतना फैलाया."

शराब के धंधे में उतरने के बाद चड्ढा परिवार ने गजरौला में गन्ने का एक क्रशर भी खोला जो बाद में बंद हो गया. कुछ ही सालों में परिवार ने गजरौला के पास ही चीनी मिलें शुरू की.

पॉन्टी चड्ढा ने जब शराब कारोबार में हाथ डाला तो इस कारोबार की काया ही पलट दी. उन्होंने शराब के बड़े कारोबारियों को अपने सिंडिकेट से जोड़ा.

सत्ता से नज़दीकी

'स्पिरिट्ज़' पत्रिका के संपादक बिशन कुमार का कहना है कि साल 1990 में पॉन्टी उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के करीब आ गए.

समाजवादी पार्टी के शीर्ष नेताओं के साथ क़रीबी से उन्हें उत्तर प्रदेश में अपने शराब व्यवसाय को फैलाने में काफी मदद मिली.

बहुजन समाज पार्टी ने जब साल 1995 में उत्तर प्रदेश में सत्ता की बाग़डोर संभाली तो पॉन्टी की किस्मत ही चमक गई.

चंद सालों में ही पॉन्टी ने नई सरकार के नेताओं का भरोसा जीत लिया और जल्द ही राज्य में शराब के व्यवसाय पर उनका एकछत्र राज स्थापित हो गया.

बिशन कुमार का कहना है कि पहले उत्तर प्रदेश में यूपी स्टेट शुगर फेडरेशन नाम की सरकारी संस्था थोक में शराब खरीदती थी और फिर ये शराब खुदरा दुकानों से बेची जाती थी.

लेकिन साल 2007 में बहुजन समाज पार्टी की सरकार बनने के बाद यह काम पॉन्टी की कंपनी को मिल गया.

उत्तर प्रदेश आबकारी विभाग के मुताबिक़ राज्य में हर साल 4 हज़ार से 5 हज़ार करोड़ की देश में बनी विदेशी शराब थोक में खरीदी जाती है.

शराब व्यवसाय में पॉन्टी के विरोधियों का आरोप है कि थोक में शराब खरीदने का ठेका मिलने के बाद पॉन्टी चड्ढा ने शराब बनाने वाली कंपनियों से मनमाने ढंग से डील करना शुरू कर दिया.

एकाधिकार

Image caption उत्तर प्रदेश में जब मायावती की सरकार बनी तो पॉन्टी चड्ढा उनकी पार्टी के बेहद करीब आ गए.

बिशन कुमार कहते हैं, "किसकी शराब खरीदें, किसकी नहीं. ये फैसला पॉन्टी चड्ढा ने करना शुरू कर दिया. कंपनियों की मजबूरी हो गई कि शराब बेचनी है तो पॉन्टी को खुश करना होगा."

उन्होंने कहा, "पॉन्टी ने इसका फायदा उठाना शुरू कर दिया. उन्होंने सस्ते में शराब खरीदकर महंगी बेचनी शुरू कर दी. वो भी मन चाहे दाम पर.

इससे मार्जिन बढ़ गया और खूब मुनाफा होने लगा. लोग इस बढ़ी हुई रकम को पॉन्टी टैक्स कहते थे."

हालांकि चड्ढ़ा परिवार के वकील ने इस पर टिप्पणी करने से ये कहते हुए इनकार कर दिया कि परिवार के लिए इस समय सबसे ज़रूरी ये है कि पॉन्टी की हत्या के गुनहगारों को सज़ा मिले.

शराब व्यवसायियों का आरोप है कि बहुजन समाज पार्टी की सरकार के दौरान पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 12 ज़िलों में पॉन्टी चड्ढा को नीलामी के बिना ही शराब की खुदरा दुकानों का ठेका मिल गया.

सिर्फ उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि पंजाब में भी पॉन्टी ने साल 2001-2002 में शराब बिक्री के ठेके हासिल किए.

पंजाब में शराब का व्यवसाय 1500 करोड़ रूपए के आस पास आंका गया था जिस पर पॉन्टी का एकछत्र राज स्थापित हो गया.

रियल एस्टेट

ये तो थी बात शराब के व्यवसाय की. रियल एस्टेट के कारोबार में भी पॉन्टी चड्ढा ने अपने रसूख का इस्तेमाल कर संपत्तियां हासिल करनी शुरू कर दी.

दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा के सेक्टर 32 और 25 A में प्रस्तावित वेव सिटी सेंटर परियोजना के लिए कंपनी को 152 एकड़ ज़मीन आवंटित की गई.

इसके अलावा भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक यानी कैग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि साल 2007 से 2011 के बीच उत्तर प्रदेश की सरकार ने 21 चीनी मिलों का विनिवेश किया.

रिपोर्ट में कहा गया है कि निविदाओं में गड़बड़ी कर निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाया गया जिसमे पॉन्टी चड्ढा की भी एक कंपनी शामिल थी.

इससे सरकार को 1,179 करोड़ रुपए का चूना लगा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार