ये हैं भारत की पांच सही लक्ष्मियां

  • 9 अक्तूबर 2013

अरूंधति भट्टाचार्य

अरूंधति भट्टाचार्य भारतीय स्टेट बैंक के चीफ़ मैनेजिंग डायरेक्टर के पद तक पहुंचने वाली पहली महिला हैं.

अरुंधति भट्टाचार्य का जन्म 18 मार्च, 1956 को हुआ. उन्होंने 1977 में भारतीय स्टेट बैंक से प्रोबेशनरी ऑफ़िसर के तौर पर अपना करियर शुरू किया.

36 साल के लंबे करियर में उन्होंने भारतीय स्टेट बैंक में कई अहम ज़िम्मेदारियों का निर्वाहन किया.

इसमें बैंक के डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर से लेकर कॉरपोरेट डेवलप्मेंट ऑफ़िसर तक की ज़िम्मेदारी शामिल रही.

अरूंधति भारतीय स्टेट बैंक की सब्सिडयरी उपक्रम एसबीआई कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड की मुखिया भी रहीं.

नैना लाल क़िदवई

भारतीय बैंकिंग दुनिया में सबसे कामयाब चेहरों में शामिल हैं नैना लाल क़िदवई. नैना पेशे से चार्टर्ड एकाउंटेंट थीं. हिमालय की चोटियों पर ट्रैकिंग करने का शौक़ उनके प्रोफ़ेशनल करियर में भी बख़ूबी दिखा.

वे एचएसबीसी इंडिया की ग्रुप जनरल मैनेजर के अलावा कंट्री हेड भी हैं. इसके अलावा वे फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडियन चैंबर्स ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री की अध्यक्ष भी हैं.

नैना लाल क़िदवई भारत की पहली महिला हैं जिन्होंने हार्वर्ड बिज़नेस स्कूल से स्नातक की डिग्री हासिल की.

दुनिया की टॉप बिज़नेस वुमेन में शुमार की जाने वाली नैना लाल क़िदवाई को भारतीय शास्त्रीय संगीत और पाश्चात्य संगीत समान रूप से पसंद है.

वे भारत में विदेशी बैंक के कामकाज को शुरू करने वाली पहली महिला हैं.

शिखा शर्मा

शिखा शर्मा भी भारतीय बैंकिंग दुनिया की अहम हस्तियों में से एक हैं. वे एक्सिस बैंक की मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ की भूमिका 2009 से ही निभा रही हैं.

शिखा शर्मा ने अपने करियर की शुरुआत 1980 में आईसीआईसीआई से की थी. वे वहां विभिन्न प्रोजेक्टों से जुड़ी रहीं.

इसके बाद वे आईसीआईसीआई प्रड्यूंशिएल लाइफ़ इंश्यूरेंस कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ भी रहीं.

शिखा शर्मा की लीडरशिप का नतीजा है कि बीते दो सालों में एक्सिस बैंक की संपत्तियों में 30 फ़ीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है.

इस दौरान बैंक के 1500 नए ब्रांच खुले हैं और आठ हज़ार से ज़्यादा एटीएम स्थापित हुए हैं.

उनकी उपलब्धियों के चलते ही उन्हें भारत की सबसे कामयाब बॉसों में गिना जाता है.

चंदा कोचर

भारतीय बैंकिंग की दुनिया में सबसे कामयाब महिला की चर्चा होने पर सबसे पहले चंदा कोचर का नाम उभरता है.

चंदा कोचर आईसीआईसीआई बैंक की मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ हैं.

चंदा कोचर ने अपना करियर आईसीआईसीआई बैंक के साथ 1984 में शुरू किया था. चंदा कोचर के बारे में एक बात सबसे अहम है, वे बैंक का कारोबार बढ़ाने के लिए आधुनिकतम तकनीकों के इस्तेमाल पर ज़्यादा भरोसा करती रही हैं.

चंदा कोचर को 2011 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया, जबकि इस साल फ़ोर्बस ने चंदा कोचर को साल की सौ सबसे ज़्यादा शक्तिशाली महिलों की सूची में शामिल किया है.

अर्चना भार्गव

अर्चना भार्गव इसी साल 23 अप्रैल को युनाइटेड बैंक की चेयरपर्सन और मैनेजिंग डायरेक्टर बनीं.

भार्गव अपने छात्र जीवन से काफ़ी प्रतिभाशाली रहीं. दिल्ली यूनिवर्सिटी की मिरांडा हाउस से उन्होंने गोल्ड मेडल के साथ स्नातकोत्तर किया.

1977 मे भार्गव मैनेजमेंट ट्रेनी के तौर पर पंजाब नेशनल बैंक से जुड़ीं. इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा.

पंजाब नेशनल बैंक के साथ 34 साल के करियर में उन्होंने कई ज़िम्मेदारियां संभालीं. इसके बाद 2011 में वे केनरा बैंक की कार्यकारी निदेशक बन गईं.

अर्चना भार्गव ने केनरा बैंक के कारोबार को ग्रेट ब्रिटेन सहित यूरोप के कई देशों और अफ़्रीक़ी महादेश में काफ़ी फैलाया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार