आंध्र और ओडिशा में बाढ़ का तांडव, 48 मरे

ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाक़ों में चक्रवाती तूफ़ान के बाद पिछले पांच दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश के कारण जान-माल का काफ़ी नुक़सान हुआ है.

आंध्र प्रदेश में लगातार हो रही बारिश से अब तक 32 लोगों की जानें गई हैं. स्थानीय पत्रकार धनंजय ने बीबीसी को बताया कि राज्य के 16 ज़िले बारिश से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं और क़रीब चार हज़ार से ज्यादा गांवों में तबाही हुई है.

आंध्र प्रदेश के तटीय इलाक़ों में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. मौसम विभाग ने कहा है कि अगले चौबीस घंटों तक बारिश होगी.

बाढ़ और बरसात से छह हज़ार से ज्यादा घरों को नुक़सान हुआ है. राहत कर्मियों ने अब तक 72 हज़ार लोगों को बाहर निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है.

धनंजय का कहना है कि राहत के लिए आपदा प्रबंधन की 12 टीमें काम कर रही हैं.

ओडिशा

वहीं ओडिशा में लगभग सभी प्रमुख नदियां ख़तरे के निशान के ऊपर बह रही हैं. राज्य में बाढ़ और बारिश के तांडव को देखते हुए स्कूल-कॉलेज सोमवार तक के लिए बंद कर दिए गए हैं.

भुवनेश्वर से स्थानीय पत्रकार संदीप साहू का कहना है कि राज्य में बाढ़ से अब तक 16 लोगों की मौत हुई है.

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बाढ़ में फंसे लोगों को उच्च स्थानों पर सुरक्षित पहुंचाने का निर्देश दिया है. साथ ही प्रभावित लोगों को पका हुआ भोजन देने का भी निर्देश जारी किया है.

राज्य में राहत कार्यों के लिए वायुसेना के हेलिकॉप्टर की मदद ली जा रही है. बाढ़ का सबसे ज्यादा असर गंजाम और गजपति ज़िलों में हुआ है जहां कई गांवों में पानी भर गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार