अमरीका के साथ इंफोसिस का वीजा मामला सुलझा

सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी इंफोसिस ने सूचना दी है कि उसका टेक्सास के ईस्टर्न डिस्ट्रिक्ट के यूएस अटॉर्नी ऑफिस के साथ सेटलमेंट का काम पूरा हो गया है. इसी के साथ उसका अमरीकी विदेश विभाग के साथ वीजा नियमों को तोड़ने संबंधी मामले की जांच का मामला भी सुलझ गया है.

इंफोसिस की ओर से दी गई सूचना के मुताबिक उसके खिलाफ न तो किसी तरह के आपराधिक मामले और न ही कोई अन्य मामले थे.

कंपनी का कहना है कि सेटलमेंट के बाद अब कंपनी के लिए अमरीका के अंदर ठेकों की कोई सीमा लागू नहीं होगी और अमरीकी वीजा कार्यक्रम के तहत वो आ जाएगा.

कंपनी के मुताबिक सेटलमेंट के तहत इंफोसिस उसके ऊपर लगे सभी आरोपों को सुलझाने के लिए तीन करोड़ चालीस लाख डॉलर अदा करने पर सहमत हो गई है. इंफोसिस ने इसके लिए पहले से ही तीन करोड़ पचास लाख डॉलर रिजर्व में रखे थे जिसमें अटॉर्नी की फीस भी शामिल है.

वीजा नियम तोड़ने के मामले में इंफोसिस की जांच अमेरिका में न्याय विभाग ने की है. कंपनी पर आरोप है कि उसने एच-1 बी वीजा के बजाय अपने कर्मचारियों को अमेरिका भेजने के लिए गलत तरीके से बी-1 वीजा का इस्तेमाल किया.

बी-1 वीजा

बी-1 वीजा व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए होता है. इंफोसिस वीजा नियमों को तोड़ने के आरोपों को पहले ही बेबुनियाद बता चुकी है.

Image caption इंफोसिस ने मामले को सुलझाने के लिए पहले ही 215 करोड़ रुपये रखे थे.

इंफोसिस ने बयान जारी कर कहा है कि बी-1 वीजा का इस्तेमाल सिर्फ वैध तरीके से व्यावसायिक उद्देश्यों से ही किया गया और किसी भी तरह से एच-1 बी वीजा कार्यक्रम की जरूरत से बचने के लिए ऐसा नहीं किया गया.

इंफोसिस का कहना है कि कंपनी के कर्मचारी बी-1 वीजा के साथ बहुत ही कम दिनों तक यहां रहे हैं.

गत अगस्त महीने में एक सॉफ्टवेयर प्रोफेशनल ने आरोप लगाया था कि इंफोसिस अमेरिकी लोगों से नौकरी में भेदभाव करती है और वह दक्षिण एशियाई लोगों को नौकरी देना पसंद करती है.

इंफोसिस अमेरिका से सबसे ज्यादा राजस्व हासिल करती है. सितंबर की तिमाही के परिणाम का ऐलान करते वक्त इंफोसिस ने कहा था कि उसने अमेरिका में वीजा मामले के संभावित सेटलमेंट के लिए 215 करोड़ रुपए अलग से रखे हैं.

इंफोसिस के लिए वीजा समस्या की शुरुआत साल 2011 में हुई थी. तब उसके ही एक पूर्व कर्मचारी ने दावा किया था कि कंपनी एच-1 वीजा के बजाय अपने कर्मचारियों को अमेरिका भेजने के लिए बी-1 वीजा का इस्तेमाल कर रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार