कपिल सिब्बल ने मोदी को बहस की चुनौती दी

केन्द्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री कपिल सिब्बल ने भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को किसी भी मसले पर खुली बहस की चुनौती दी है.

सिब्बल ने कहा, "मैं मोदी को बहस के लिए चुनौती देता हूं. वह कोई भी मंच, स्थान, भाषा और मुद्दा चुन सकते हैं. मैं तैयार हूं."

कपिल सिब्बल ने नरेंद्र मोदी के बारे में कहा कि गुजरात के मुख्यमंत्री को भाषण देने से पहले तथ्यों की जांच कर लेनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि भाजपा नेता के पास बुनियादी जानकारी का अभाव है और वह काल्पनिक दावे कर रहे हैं.

कपिल सिब्बल ने यह आरोप भी लगाया कि नरेंद्र मोदी की रैलियों के आयोजन में काले धन का इस्तेमाल किया जा रहा है.

इससे पहले देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की विशालकाय मूर्ति के शिलान्यास को लेकर देश के दो प्रमुख सत्ताधारी दलों भाजपा और कांग्रेस में तीखी नोकझोंक हो चुकी है.

कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को कहा, "इस बात की जांच होनी चाहिए कि उनकी ख़र्चीली रैलियों के लिए धन कौन दे रहा है."

इससे पहले उन्नाव ज़िले के साधु शोभन सरकार ने सवाल किया था कि नरेंद्र मोदी की रैलियों के इंतज़ाम पर किया जा रहे भारी ख़र्च के लिए धन कहां से आ रहा है?

ख़र्च पर सवाल

ग़ौरतलब है कि नरेंद्र मोदी केंद्र सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ सभी राज्यों में रैली कर रहे हैं. इन रैलियों में बड़ी संख्या में लोग शामिल हो रहे हैं.

भाजपा इन विशाल रैलियों के इंतज़ाम पर काफ़ी ख़र्च भी कर रही है.

उन्होंने आगे कहा कि मोदी प्रधानमंत्री बनने के लिए बेताब हैं, लेकिन वो पारदर्शिता और जवाबदेही में विश्वास नहीं करते हैं.

इससे पहले सरदार पटेल की प्रतिमा के शिलान्यास के मौक़े पर नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर हमला बोलते हुआ कहा था कि सरदार पटेल को किसी एक पार्टी तक सीमित करके देखना ग़लत होगा.

नरेंद्र मोदी यह भी कह चुके हैं कि अगर पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो देश की स्थित कुछ और ही होती.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार