तहलका यौन शोषण मामला: शुरुआती जाँच के आदेश

तरुण तेजपाल

तहलका पत्रिका में एक महिला पत्रकार के साथ संस्थापक संपादक तरुण तेजपाल के कथित यौन दुर्व्यवहार के मामले में गोवा सरकार ने अपनी ओर से शुरुआती जाँच कराने का आदेश दे दिया है.

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए बताया, "शुरुआती जाँच के लिए किसी की ओर से किसी तरह की शिकायत की ज़रूरत नहीं होती है. एक अपराध राज्य में हुआ है तो शिकायत हो या न हो हमारी ज़िम्मेदारी है मामले की जाँच करना."

मगर साथ ही पर्रिकर ने ये भी कहा कि जाँच इस बात पर निर्भर करेगी कि पीड़िता शिकायत करती है या नहीं.

उनके अनुसार, "हमने एक शुरुआती जाँच शुरू की है. हम तब तक प्राथमिकी दर्ज नहीं करना चाहते जब तक शिकायतकर्ता ख़ुद प्राथमिकी दर्ज न कराए."

इस बीच पत्रिका की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी ने कहा है कि वह पीड़िता के साथ संपर्क में हैं.

कार्रवाई शुरू

उधर गोवा के पुलिस महानिदेशक किशन कुमार ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि उन्होंने रिपोर्टों के आधार पर कार्रवाई शुरू कर दी है और वो पीड़ित लड़की से संपर्क करने की कोशिश करेंगे.

किशन कुमार ने कहा, "हमने मीडिया रिपोर्टों के आधार पर कार्रवाई शुरू की है. हमने शोमा चौधरी (तहलका की मैनेजिंग डॉयरेक्टर) को ईमेल किया है कि आपको उस लड़की ने चिट्ठी लिखी है जिसमें इस तरह की बातें लिखी हुई हैं. अगर आपको ऐसी चिट्टी मिली है तो हमें आप कार्रवाई के लिए वो पत्र भेजिए क्योंकि रिपोर्टों के अनुसार ये घटना गोवा में हुई थी."

किशन कुमार के मुताबिक शोमा चौधरी को ये शिकायत पुलिस को देनी चाहिए.

उन्होंने कहा, "हमने उनके मोबाइल पर एसएमसएस भेजा है कि हमने आपको एक ईमेल भेजा है और इस पर तुरंत कार्रवाई कीजिए. जिस होटल में कथित तौर पर ये वाकया हुआ, वहां हमने जांच शुरू कर दी है. हम वीडियो फ़ुटेज पर कार्रवाई कर रहे हैं."

बीबीसी हिंदी से बातचीत में राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य निर्मला सावंत ने कहा है कि आयोग ने मामले में ख़ुद ही कार्रवाई करने का फ़ैसला किया है.

इससे पहले तरुण तेजपाल ने कथित यौन दुर्व्यवहार के बाद पद से छह महीने के लिए हटने का फ़ैसला किया था. साथ ही उन्होंने इसके लिए उस सहकर्मी से माफ़ी माँगने की भी बात कही है.

'गंभीर दुर्व्यवहार'

मगर पीड़ित लड़की के एक क़रीबी व्यक्ति ने कहा है कि लड़की के साथ गंभीर दुर्व्यवहार हुआ है.

उनके अनुसार, "लड़की के ये कहने के बावजूद कि वह उनकी बेटी की उम्र की है ये लगातार हुआ...वह कहती रही कि 'प्लीज़ ऐसा नहीं करो'... उनकी 'न' को नहीं माना गया...ये एक बार हुआ और अगले दिन फिर हुआ."

जबकि तेजपाल की ओर से कहा गया कि जो भी हुआ और जो भी शिकायत की गई उससे 'सम्मानजनक तरीक़े से निबटा गया'.

इसके बाद शोमा चौधरी जब गुरुवार दोपहर तहलका के दफ़्तर जा रही थीं तो बाहर ही उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा, "जो मुद्दे उठाए गए हैं मैं उन पर सही ढंग से प्रतिक्रिया देना चाहूँगी. मैं पारदर्शिता की ज़रूरत समझती हूँ मगर मुझे सही ढंग से क़दम उठाने के लिए समय चाहिए."

चौधरी के मुताबिक़, "ये मुश्किल समय है मगर सभी सवालों के जवाब दूँगी, लेकिन मुझे प्राथमिकता तय करने के लिए समय दीजिए. मैं उस (पीड़िता) के साथ संपर्क में हूँ, मगर मुझे समय दीजिए."

मीडिया में क्यों हो रहा है योन शोषण?

तेजपाल का बयान

Image caption पीड़ित महिला के एक दोस्त ने कहा कि युवती के बार-बार मना करने पर भी उसकी बात नहीं सुनी गई.

ये मामला तहलका पत्रिका के इसी महीने गोवा में हुए एक कार्यक्रम के दौरान हुआ है जिसमें दुनिया भर से बड़ी हस्तियां पहुंची थीं.

महिला आयोग की सदस्य निर्मला सावंत ने कहा है, "हम इस बात से हैरान हैं कि जिस व्यक्ति ने अपने सहकर्मी के साथ यौन दुर्व्यवहार की घटना को स्वीकार किया है वह ख़ुद को सज़ा देने का भी निर्णय ले रहा है, वह ख़ुद कैसे अपने अपराधों का फैसला दे सकता है?"

तरुण तेजपाल ने कहा है, “एक बुरे फ़ैसले, परिस्थिति को ठीक से न समझ पाने की वजह से यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई है. जो हमारे सिद्धांतों के ख़िलाफ़ है. मैंने पहले ही बगैर किसी शर्त के संबंधित पत्रकार से अपने दुर्व्यवहार के लिए माफ़ी मांग ली है, लेकिन और प्रायश्चित करना चाहिए.”

तेजपाल ने पत्र में कहा है, “मुझे लगता है कि प्रायश्चित सिर्फ़ शब्दों से नहीं हो सकता...इसलिए मैं तहलका के संपादक पद से हटने की पेशकश कर रहा हूं...अगले छह महीने के लिए.”

पीड़ित के क़रीबी व्यक्ति ने मांग की है कि तहलका पत्रिका को यौन शोषण के आरोपों की जांच के लिए एक समिति बनानी चाहिए.

प्रतिक्रिया

इस बीच गोवा में फ़िल्म उत्सव में हिस्सा लेने पहुँचे सूचना प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने कहा है, "ये काफ़ी संवेदनशील मामला है. इसमें पूरा ब्योरा देखने के बाद अगर लगता है कि कोई प्रतिक्रिया देने की ज़रूरत है तो हम ज़रूर ऐसा करेंगे."

वहीं भारतीय जनता पार्टी ने तेजपाल की तुरंत गिरफ़्तारी की माँग की है. पार्टी प्रवक्ता मीनाक्षी लेखी ने कहा, "हम तरुण तेजपाल की तुरंत गिरफ़्तारी की माँग करते हैं."

महिला ने इस बारे में पत्रिका की प्रबंध संपादक शोमा चौधरी से कथित घटना के बारे में शिकायत की थी.

इस पूरे मामले पर महिला कार्यकर्ताओं और पत्रकारों ने सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया जताई है, उनकी मांग है कि इस घटना की स्वतंत्र जांच होनी चाहिए.

वकील करुणा नंदी ने ट्वीट किया, "सभी मीडिया हाउसों के लिए ये वक़्त है जब वो यौन शोषण के खिलाफ कमेटी बनाएं. तेजपाल अपनी सद्भावना ऐसी कमेटी के सामने पेश होकर जता सकते हैं."

वहीं पत्रकार सागरिका घोष ने ट्वीट किया, "तहलका में जो हुआ उससे हैरान और बहुत दुखी हूं. तरुण कई सालों से दोस्त हैं, अब अनजाने जैसे लगते हैं...क्यों, तरुण?"

तहलका ने साल 2000 में भारत के समाचार बाज़ार में एक वेबसाइट के तौर पर शुरुआत की थी. जल्दी ही इसे अपनी खोजी और अक्सर विवादास्पद पत्रकारिता के लिए पहचान मिली.

तहलका ने मार्च 2001 में सनसनी पैदा कर दी जब इसने सेना के अफ़सरों और नेताओं के वीडियो टैप जारी किए जो हथियारों के सौदागर बने पत्रकारों से घूस ले रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार