जेल मत भेजो, सब शर्तें मानेंगे तेजपालः बचाव पक्ष

  • 30 नवंबर 2013
यौन उत्पीड़न के आरोपों में घिरे हैं तेजपाल

यौन उत्पीड़न के मामले में तहलका पत्रिका के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल की ज़मानत याचिका पर नॉर्थ गोवा सेशन कोर्ट में सुनवाई हो रही है.

ज़मानत याचिका पर फ़ैसला आने से पहले ही तरुण तेजपाल गोवा पुलिस क्राइम ब्रांच के दफ़्तर पहुँच गए जबकि उनका परिवार अदालत में मौजूद रहा.

बचाव पक्ष ने अदालत से ज़मानत देने की माँग करते हुए कहा कि तेजपाल जाँच में सहयोग के लिए गोवा में रहने के लिए तैयार हैं. तेजपाल ने अदालत को विदेश न जाने का भी भरोसा दिया है.

वहीं अभियोजन पक्ष ने मामले की गंभीरता का हवाला देते हुए अदालत से तेजपाल को ज़मानत ने देने की गुहार लगाई है. बचाव पक्ष ने अदालत से कहा कि तेजपाल हर शर्त मानने और जाँच में पूरा सहयोग करने के लिए तैयार हैं इसलिए उन्हें जेल न भेजा जाए.

अभियोजन पक्ष का तर्क है कि आरोपी अपने रुतबे और हैसियत का इस्तेमाल कर जाँच को प्रभावित कर सकते हैं.

अभियोजन पक्ष ने अदालत को यह भी बताया कि पीड़िता अपने परिवार में कमाने वाली अकेली सदस्य हैं.

'राजनीति'

Image caption तेजपाल के खिलाफ कई जगह प्रदर्शन भी हुए

सुनवाई पूरी होने के बाद अदालत तेजपाल की ज़मानत याचिका पर अपना फ़ैसला देगी. इससे पहले अदालत ने गोवा पुलिस से ज़मानत याचिका पर सुनवाई से पहले तेजपाल को गिरफ़्तार न करने के लिए कहा था.

याचिका पर सुनवाई के लिए गोवा पहुँचे तेजपाल ने कहा कि वे पुलिस को सहयोग करने के लिए ही गोवा आए हैं.

इससे पहले शुक्रवार को गोवा पुलिस ने तरुण तेजपाल से क़रीब दो घंटे तक पूछताछ की थी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ शुक्रवार को एक टीवी चैनल की पत्रकार से तरुण तेजपाल ने कहा कि उनके ख़िलाफ़ मामले में राजनीति हो रही है.

तेजपाल ने कहा, "इस मामले में कोई अधिकारिक शिकायत नहीं की गई थी. क्या दफ़्तर के आंतरिक ई-मेल स्वतः संज्ञान को तय करेगा. दिल्ली में बैठे कुछ लोग इस मामले पर हर घंटे अपडेट ले रहे हैं."

मीडिया पर निशाना साधते हुए तेजपाल ने कहा, "मीडिया हर समय सिर्फ़ शोर मचा रही है और चिल्ला रही है."

गोवा में हुए तहलका पत्रिका के थिंकफ़ेस्ट कार्यक्रम के दौरान एक महिला सहकर्मी ने तेजपाल पर यौन शोषण के आरोप लगाए हैं. महिला सहकर्मी ने पत्रिका की पूर्व प्रबंध संपादक शोमा चौधरी को ई-मेल भेजकर जानकारी दी थी जिसके बाद तेजपाल ने छह महीने के लिए ख़ुद को पत्रिका से करने का फ़ैसला लेते हुए इस्तीफ़ा दे दिया था.

पीड़िता के ई-मेल मीडिया में लीक होने के बाद गोवा पुलिस ने स्वतः संज्ञान लेते हुए बलात्कार का मामला दर्ज किया है. विवाद बढ़ने के बाद शोमा चौधरी ने भी पत्रिका से इस्तीफ़ा दे दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार