उप वाणिज्य दूत की गिरफ़्तारी पर नाराज़ भारत

  • 13 दिसंबर 2013
सैयद अकबरुद्दीन
Image caption विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने कहा है कि भारत भारतीय राजनयिक के साथ किए गए बर्ताव से अचंभित है.

भारत ने अमरीका में अपने राजनयिक देवयानी खोबरागड़े के साथ किए गए बर्ताव पर विरोध जताया है.

साथ ही भारत ने अमरीकी राजदूत नैंसी पॉवेल को इस मसले पर बातचीत के लिए बुलाया है.

न्यूयार्क में भारत की उप वाणिज्य दूत देवयानी खोबरागड़े को फर्जी वीज़ा और नौकरानी को प्रताड़ित करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था. भारत ने कहा कि उसे मजबूरन ये मामला अमरीका के साथ उठाना पड़ा है.

भारतीय उप वाणिज्य दूत न्यूयार्क में गिरफ्तार

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने कहा, "भारत अमरीका की ओर से न्यूयॉर्क स्थित अपने राजनयिक के साथ किए गए बर्ताव को लेकर सदमे में है और अचंभित भी है."

देवयानी पर फर्जी वीज़ा और ग़लत बयान देने का आरोप है. जबकि देवयानी को गिरफ्तार करने के बाद उन्हें हथकड़ी पहनाए जाने का आरोप लगाते हुए प्रवक्ता ने कहा, "भारत को अमरीका का उसके राजनयिक के साथ किया गया बर्ताव स्वाकार्य नहीं है."

बर्ताव अस्वीकार्य

सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि दो बच्चों की मां को इस तरह सार्वजनिक रूप से प्रताड़ित नहीं किया जा सकता है.

दूसरी ओर न्यूयॉर्क स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास ने अपने बयान में कहा कि देवयानी को गुरुवार को अपनी बच्ची को स्कूल छोड़ते समय प्रवर्तन अधिकारियों ने हिरासत में ले लिया था.

वाणिज्य दूतावास में राजनीतिक, आर्थिक, वाणिज्यिक और महिला मामलों को देखने वाली देवयानी को मैनहटन संघीय अदालत ने दो लाख 50 हजार डॉलर की जमानत पर रिहा कर दिया है.

वॉशिंगटन में भारतीय दूतावास ने खोबरागड़े के खिलाफ की गई कार्रवाई पर चिंता जताई है. साथ ही दूतावास ने अमरीका से इस मामले को संवेदनशीलता के साथ निपटाने का अनुरोध भी किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार