दूसरी 'निर्भया' इस बार वो थी 'डायन'

  • 18 दिसंबर 2013
गैंगरेप

एक ओर देश भर में दिल्ली गैंगरेप के एक साल पूरे होने पर बहस हो रही थी, तो दूसरी ओर छत्तीसगढ़ के गांव में सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता अपनी रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए एक थाने से दूसरे थाने भटक रही थी.

सामूहिक दुष्कर्म का ये मामला जांजगीर-चांपा ज़िले के बलौदा थाने के एक गांव में सामने आया है.

ज़िले के पुलिस अधीक्षक के हस्तक्षेप के बाद मामला तो दर्ज हो गया लेकिन अब तक पीड़िता चिकित्सकीय परीक्षण के लिये भटक रही है.

दलित परिवार की इस विवाहित महिला का आरोप है कि उन्होंने हत्या के प्रयास के एक मामले में गांव के कुछ प्रभावशाली लोगों के खिलाफ अदालत में गवाही दी थी.

झारखंड: 'डायन' बताकर आठ महीने में 40 महिलाओं की हत्या

पति को रस्सियों से बांधा

महिला को इस अदालती मामले से दूर रहने के लिये तमाम तरह के प्रलोभन दिये गये और दबाव भी बनाया गया. लेकिन महिला गवाही देने से पीछे नहीं हटी. इसके बाद से ही गांव के प्रभावशाली लोग महिला से नाराज़ थे.

गवाही के बाद से महिला को तरह-तरह से परेशान करने का सिलसिला शुरु हो गया.

Image caption घटना के दिन निर्भया कांड के एक साल होने पर पूरा देश उसे याद कर रहा था.

महिला के अनुसार- “गांव भर में यह बात फैला दी गई कि मैं डायन हूं. एक तरह से मेरा सामाजिक बहिष्कार करने की कोशिश की गई.”

रविवार को जब यह महिला अपने पति के साथ बिलासपुर से लौट रही थी तो गांव से बाहर गांव के ही कुछ प्रभावशाली लोगों ने दुर्व्यवहार करना शुरु कर दिया. पति-पत्नी किसी तरह अपने घर पहुंचे.

कुछ घंटे बाद पीछे से लगभग डेढ़ दर्ज़न लोग महिला के घर पहुंचे और महिला के पति को घर में रस्सियों से बांध दिया. इसके बाद वे महिला को खींचते हुये पास की चौपाल पर ले गये.

महिला का आरोप है कि भीड़ ने वहां उनके कपड़े फाड़े और उन्हें डायन बता कर उनके सिर के बाल नोचना शुरु किया.

भीड़ ने किया दुष्कर्म

महिला किसी तरह भीड़ से बचती हुई गांव के कोटवार (गांव की खबरों को सरकार तक पहुंचाने वाला व्यक्ति) के घर जा कर छिप गई. लेकिन भीड़ वहां भी जा पहुंची.

इसके बाद भीड़ में शामिल लोग उन्हें गांव के बाहर ले गये, जहां उनके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया.

पीड़ित महिला के अनुसार सोमवार की सुबह जब उन्हें होश आया तो वे किसी तरह अपने घर पहुंची. इसके बाद पति और दूसरे रिश्तेदारों की मदद से वे बलौदा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंची. लेकिन जब वहां रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई तो वे ज़िले के पुलिस अधीक्षक के पास गईं.

पुलिस अधीक्षक के निर्देश के बाद गांव के डेढ़ दर्जन लोगों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म व टोनही यानी डायन प्रताड़ना अधिनियम के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया.

ज़िला मुख्यालय की पुलिस उपाधीक्षक सुरेशा चौबे के अनुसार-“मामला बेहद संवेदनशील है और हम इस मामले के हरेक पहलू की पड़ताल कर रहे हैं. आरोपियों की ग़िरफ़्तारी के लिये पुलिस टीम लगी हुई है.”

लेकिन सरकारी अमले की गंभीरता का आलम ये है कि पीड़िता अभी भी चिकित्सकीय परीक्षण के लिये भटक रही है.

जांजगीर-चांपा के सरकारी अस्पताल में चिकित्सकीय परीक्षण के बाद चिकित्सकों ने अपनी राय देने में असमर्थता जाहिर करते हुये बिलासपुर में चिकित्सकीय परीक्षण के लिये पीड़िता को ‘रेफर’ कर दिया.

गवाही का खामियाजा

Image caption गांव के डेढ़ दर्जन लोगों के खिलाफ डायन प्रताड़ना अधिनियम के अंतर्गत भी मामला दर्ज किया गया है.

जांजगीर-चांपा ज़िले की पुलिस जब मंगलवार को बिलासपुर ज़िला अस्पताल पहुंची तो डॉक्टरों ने यह कहते हुए हाथ खड़े कर दिए कि चिकित्सकीय जांच बिलासपुर ज़िला अस्पताल में करने का उल्लेख रिपोर्ट में नहीं है.

बिलासपुर में सरकारी ज़िला अस्पताल के अलावा छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान मेडिकल कॉलेज भी है. जांजगीर-चांपा पुलिस पीड़िता को छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान ले कर पहुंची तो वहां भी चिकित्सकों ने जांच करने से मना कर दिया. अंततः जांजगीर-चांपा ज़िले की पुलिस महिला को बिना चिकित्सकीय जांच के वापस लौट गई.

पुलिस का दावा है कि कागजात को दुरुस्त कराने के बाद बुधवार को छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान में ही महिला का चिकित्सकीय परीक्षण कराया जाएगा. लेकिन सामूहिक दुष्कर्म के बाद चिकित्सकीय जांच की इस काग़ज़ी कार्रवाई ने पीड़िता और उसके परिवार की हिम्मत तोड़ दी है.

पीड़िता के पति ने कहा- “एक तो हम पर पहले से ही परेशानियों का पहाड़ टूटा था, उस पर अब जांच के नाम पर यह फज़ीहत हम पर और भारी पड़ रही है. लगता है, मेरी पत्नी ने बड़े लोगों के खिलाफ गवाही दे कर, सच का साथ दे कर बड़ी ग़लती की है.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार