छत्तीसगढ़ः नशे में धुत पिता ने बच्चे को चूल्हे में झोंका

छत्तीसगढ़
Image caption आदिवासी समुदाय के एशिया राम राठिया शराब पीने के आदी बताए जाते हैं

सात महीने के बच्चे ने जब भूख के मारे रोना शुरू किया तो शराब के नशे में धुत पिता ने बच्चे को जलते चूल्हे में डाल दिया. जलते चूल्हे में बच्चे की मौत हो गई.

दिल दहला देने वाली यह घटना छत्तीसगढ़ के रायगढ़ ज़िले के धरमजयगढ़ इलाके की है.

रायगढ़ के पुलिस अधीक्षक राहुल भगत के अनुसार “बच्चे की हत्या के मामले में पुलिस ने अभियुक्त पिता को गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ की जा रही है.”

पुलिस ने बताया कि आदिवासी समुदाय के 45 साल के एशिया राम राठिया और उसकी पत्नी रासमति शराब पीने के आदी हैं.

जलते चूल्हे में डाला

घटना वाली रात भी दोनों ने शराब पी और बच्चे को बिना दूध पिलाए सो गए. देर रात गए जब बच्चे ने भूख से रोना-बिलखना शुरु किया तो पति-पत्नी में इस बात को लेकर बहस हुई. बहस करते-करते वे दोनों फिर से सो गए.

बच्चे का रोना जारी रहा.

मां ने पुलिस को बताया कि नींद में खलल पड़ने से नाराज एशिया राम राठिया ने भूख से बिलखते बच्चे को उठाया और जलते चूल्हे में डाल दिया.

आग में झुलसते बच्चे की चीख से जब तक मां की नींद खुली, तब तक देर हो चुकी थी.

मां ने किसी तरह बच्चे को चूल्हे से बाहर निकाला लेकिन तब तक बच्चा आग में बुरी तरह झुलस चुका था. कुछ ही देर में बच्चे की मौत हो गई.

शराब की बिक्री बढ़ी

गांव वालों का आरोप है कि बच्चे की मौत की खबर जब सुबह गांव वालों को हुई तो बच्चे के पिता एशिया राम राठिया ने गांव वालों को भी धमकाया कि अगर किसी ने पुलिस में सूचना दी तो उसे भी वह मार डालेगा.

Image caption राज्य भर में शराब की बिक्री तेजी से बढ़ी है

गांव के एक युवक ने पुलिस को सूचना दी तब कहीं जा कर अपने बच्चे को चूल्हे में डालने के आरोप में एशिया राम राठिया को गिरफ्तार किया गया.

पुलिस के अनुसार एशिया राम राठिया का कहना था कि पति-पत्नी जब शराब पीकर सो जाते थे तो बच्चा रात में रोता था, जिससे वह पिछले कई दिनों से परेशान थे.

आदिवासियों के बीच काम करने वाली ट्राइबल वेलफेयर सोसायटी के प्रवीण पटेल का कहना है कि राज्य भर में शराब की बिक्री जिस तरह से बढ़ी है, उसके शिकार सबसे अधिक आदिवासी हुए हैं.

प्रवीण पटेल कहते हैं, “शराब ने मनुष्य की तमाम संवेदनाओं को कुंद कर दिया है और धरमजयगढ़ की घटना इसी का परिणाम है.”

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार