आदर्श घोटाला: महाराष्ट्र सरकार ने जांच रिपोर्ट स्वीकारी

  • 2 जनवरी 2014
Image caption अवैध रूप से फ़्लैट पाने वालों की सूची में पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चह्वाण के रिश्तेदारों के नाम भी शामिल हैं

आदर्श सोसायटी घोटाला मामले में न्यायिक आयोग की रिपोर्ट को महाराष्ट्र सरकार ने स्वीकार कर लिया है.

महाराष्ट्र सरकार ने 20 दिसंबर को जांच पैनल की रिपोर्ट खारिज कर दी थी लेकिन गुरुवार को राज्य की कैबिनेट ने अपने पूर्व के रूख में पूरी तरह बदलाव लाते हुए जांच रिपोर्ट को आंशिक रूप से स्वीकार कर लिया है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पिछले दिनों आदर्श जांच रिपोर्ट पर महाराष्ट्र सरकार के फ़ैसले से असहमति जताई थी.

कांग्रेस शासित मुख्यमंत्रियों की एक बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा था, ''मैं महाराष्ट्र सरकार के फैसले से असहमत हूँ और मुझे लगता है कि आदर्श की जांच रिपोर्ट पर फिर से विचार होना चाहिए.''

माना जा रहा है कि राहुल गांधी की असहमति के बाद ही राज्य की पृथ्वीराज चौहान सरकार ने इस पर पुनर्विचार करने का फैसला किया है.

जांच रिपोर्ट

गुरुवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चौहान ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि सरकार न्यायिक आयोग की जांच रिपोर्ट पर फिर से विचार करने के लिए इसे स्वीकार करती है.

उन्होंने कहा कि मामले की जांच कर रही सीबीआई ने राज्य सरकार से मदद मांगी है और सरकार ने उसे पूरी मदद का आश्वासन दिया है.

राज्य सरकार ने आदर्श सोसायटी घोटाला मामले में बहु-प्रतीक्षित जाँच रिपोर्ट 20 दिसंबर को विधानसभा में पेश की थी जिसे खारिज कर दिया गया था.

जाँच रिपोर्ट में आदर्श सोसायटी में फ़्लैट मिलने वालों की सूची में राज्य के शीर्ष नेताओं और अधिकारियों के नाम शामिल हैं.

भारतीय जनता पार्टी ने राज्य सरकार द्वारा नियुक्त जाँच आयोग की रिपोर्ट को राज्य सरकार द्वारा नकारने पर मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चह्वाण की आलोचना भी की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार