दुर्भाग्यपूर्ण है मोदी की आलोचनाः बीजेपी

राजनाथ सिंह
Image caption राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री के बयान की कड़ी आलोचना की है

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मीडिया के साथ अपने संबोधन और प्रेस वार्ता में भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पर तीखी टिप्पणी करते हुए कहा कि उन्हें लगता है कि मोदी का पीएम बनना देश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण होगा.

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की इस टिप्पणी पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

राजनाथ सिंह ने कहा, "नरेंद्र मोदी पर प्रधानमंत्री की टिप्पणी की मैं आलोचना करता हूँ. नरेंद्र मोदी ने गुजरात को विकास के मामले में देश के मॉडल के रूप में खड़ा किया है. उस व्यक्ति के संबंध में यह कहना कि उनके पीएम बनने से देश बर्बाद हो जाएगा यह बहुत ही हास्यास्पद बयान है."

भाजपा अध्यक्ष के मुताबिक़, "उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति के शासनकाल में दंगे हुए हैं उसे देश का प्रधानमंत्री नहीं होना चाहिए. 2002 में जो कुछ भी हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद है, इसमें कोई संदेह नहीं है लेकिन नरेंद्र मोदी को विशेष जाँच दल और अदालत ने क्लीन चिट दे दी है उसके बाद प्रधानमंत्री का ये बयान दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं इसकी निंदा करता हूँ."

मनमहोन की प्रेस वार्ता पर टिप्पणी करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, "देश प्रधानमंत्री की प्रेस वार्ता से निराश है. एनडीए के वक़्त विकास दर 8.4 फ़ीसदी थी लेकिन यूपीए के कार्यकाल में यह अपने न्यूनतम स्तर पर अटक गई है."

Image caption राजनाथ सिंह के साथ ही पूरी भाजपा ने मोदी पर प्रधानमंत्री के हमले की आलोचना की

अफ़सोस

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मनमोहन सिंह की प्रेस वार्ता पर टिप्पणी करते हुए कहा, "अफ़सोस जताते हुए दस साल गुज़र गए हैं. देश की जनता भ्रष्टाचार और दस साल की कांग्रेस सरकार से ऊब गई है. अब उन्हें अफ़सोस जताने की ज़रूरत नहीं है. जनता जब उन्हें सबक सिखाएगी तब उन्हें अफ़सोस होगा."

भारतीय जनता पार्टी के नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा, "आज वे नरेंद्र मोदी को विनाशकारी करार दे रहे हैं. अगर देश के लोग नरेंद्र मोदी को उनके नेतृत्व और रिकॉर्ड के आधार पर देश का प्रधानमंत्री बनाना चाहते हैं तो उन्हें विनाशकारी कहने वाले आप कौन होते हैं? दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि पिछले दस वर्षों में सार्वजनिक बेइज़्ज़ती, मंत्रियों के कहना न मानने, राहुल गाँधी के दुत्कारने के बावजूद उन्हें कभी नहीं लगा कि उन्हें इस्तीफ़ा दे देना चाहिए. आज उन्होंने खुद स्वीकार किया कि वे बेरोजगारी और महंगाई रोकने में नाकामयाब रहे. यदि इस सबके बावजूद उन्होंने कभी इस्तीफ़े के बारे में नहीं सोचा तो मैं यही कहूँगा कि उन्होंने प्रधानमंत्री की कुर्सी का अमंगल किया है."

मनमोहन सिंह के कार्यकाल के बारे में रविशंकर प्रसाद ने कहा, "90 के दशक में वित्त मंत्री के रूप में वे बर्दाश्त करने के लायक थे लेकिन पिछले दस सालों में वे देश के लिए एक विनाशकारी ही रहे हैं."

कौन रोकेगा?

Image caption आम आदमी पार्टी ने सवाल किया है कि 'मोदी के विनाश' को रोकेगा कौन?

आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया ने सवाल किया कि यदि मोदी का प्रधानमंत्री बनना विनाशकारी होगा तो इस विनाश को रोकेगा कौन?

'आप' के एक अन्य नेता प्रशांत भूषण ने कहा, "मोदी ने गुजरात में भ्रष्टाचार कम नहीं किया है. गुजरात में लोकपाल को कमजोर किया है. मैं प्रधानमंत्री के बयान से सहमत हूँ, मोदी का प्रधानमंत्री बनना देश के लिए ख़तरनाक होगा."

विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने मनमोहन सिंह की तारीफ़ करते हुए कहा, "वे असाधारण व्यक्ति हैं, आर्थिक मामले में प्रतिभा के धनी हैं. बहुत मुश्किल समय में उन्होंने नेतृत्व किया है."

नरेंद्र मोदी और राहुल गाँधी पर प्रधानमंत्री की टिप्पणियों के संबंध में पूछे गए सवाल पर सलमान खुर्शीद ने कहा, ""मुझे लगता है कि हम राहुल गाँधी के बारे में जो कुछ भी सोचते हैं उन्होंने वही कहा है. जहाँ तक मोदी का सवाल है जो कड़वाहट उनके मन में मोदी के बारे में है उन्होंने वही जाहिर की है."

जनता दल यूनाइटेड के नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि मोदी के बारे में प्रधानमंत्री ने वही राय जाहिर की है जो देश के अधिकतर लोग रखते हैं. तिवारी ने यह भी कहा कि उन्हें नहीं लगता कि प्रधानमंत्री की प्रेस वार्ता से कांग्रेस को कोई राजनीतिक फ़ायदा हो सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार