रूस: पांच 'संदिग्ध चरमपंथी' हिरासत में

रूस, चरमपंथ
Image caption शीतकालीन ओलंपिक के लिए रूस ने 30 हजार सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया है.

रूसी अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने उत्तरी कॉकेशस क्षेत्र से एक 'प्रतिबंधित अंतरराष्ट्रीय चरमपंथी संगठन' के पांच सदस्यों को हिरासत में लिया है.

ये गिरफ्तारियां अगले माह होने वाले शीतकालीन ओलंपिक के आयोजन स्थल सोची के ब्लैक सी रिसोर्ट से करीब 300 किमी पूरब में स्थित नाल्चिक से की गई हैं.

रूस ने पहले ही कहा था कि वह इस्लामी चरमपंथियों के हमला करने की आशंका को देखते हुए क्षेत्र में 30 हजार पुलिसकमिर्यों और अर्धसैनिक बलों के जवानों की तैनाती कर रहा है.

पिछले महीने की 29 और 30 तारीख को दक्षिणी शहर वोल्गोग्राद में हुए बम विस्फोट में 34 लोगों की मौत के बाद सुरक्षा के इंतजाम बेहद कड़े कर दिए गए हैं.

ये हमले उत्तरी कॉकेशस के चरमपंथियों के पहले किए हमले से मिलते-जुलते थे. किसी संगठन ने इन हमलों की ज़िम्मेदारी नहीं ली है, लेकिन रूस के सबसे वांछित व्यक्ति और चेचन्या के विद्रोही नेता डोकू उमारोफ़ ने इससे पहले अपने लड़ाकों से खेलों को निशाना बनाने को कहा था.

विस्फोटक यंत्र

रूस की चरमपंथ विरोधी कमेटी का कहना है कि संदिग्धों के पास से ग्रेनेड, विस्फोटक और छर्रे युक्त विस्फोटक यंत्र बरामद हुए हैं. अधिकारियों ने ये जानकारी नहीं दी है कि संदिग्ध लोग कथित रूप से किस चरमपंथी संगठन हैं. रूसी पुलिस ने वोल्गोग्राद में हुए दोहरे विस्फोट के बाद 700 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है.

Image caption वोल्गोग्राद विस्फोट मामले में पुलिस ने 700 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है.

जांचकर्ताओं का मानना है कि इस घटना को अंजाम देने के लिए दो षड्यंत्रकारी उत्तरी कॉकेशस से यहां आए थे.

इन हमलों ने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को ओलंपिक के इतिहास में एक सबसे बड़े सुरक्षा अभियान को शुरू करने पर मजबूर किया है. पुतिन खुद आयोजन स्थलों का निरीक्षण कर रहे हैं.

7 फरवरी से शुरू हो रहे इन खेलों के सफल आयोजन के लिए रूसी अधिकारियों ने दो सुरक्षा ज़ोन बनाए हैं.

ओलंपिक आयोजन स्थल के करीब 'कंट्रोल्ड ज़ोन'(नियंत्रित जोन) में केवल वही लोग जा सकेंगे जिनके पास टिकट और पहचान पत्र हो. जबकि सोची के आसपास के कई बड़े इलाकों को 'वर्जित क्षेत्र' बनाया जाएगा.

उधर, शुक्रवार को अमरीका ने शीतकालीन ओलंपिक देखने जाने वाले अपने नागरिकों के लिए यात्रा अलर्ट जारी किया है . अमरीका ने रूस में चरमपंथी हमलों के प्रति सचेत रहने को कहा है, हालांकि इस चेतावनी में यह भी कहा गया कि केवल अमरीकियों को कोई विशेष ख़तरा नहीं है.

चेचन्या में रूसी सेना और विद्रोहियों के बीच चल रहे संघर्ष के कारण हाल के सालों में चरमपंथी हमले हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार