उत्तर प्रदेश में 'सबका' मालिक एक: नरेंद्र मोदी

  • 23 जनवरी 2014
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Reuters

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में गुरूवार को हुई विजय शंखनाद रैली में भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने राज्य की समाजवादी पार्टी पर जमकर हमला बोला.

कांग्रेस पार्टी तो हमेशा की तरह उनके निशाने पर रही ही.

मोदी ने यह जताने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी कि अगर साठ सालों से देश से गरीबी नहीं जा रही तो उसकी जिम्मेदार कांग्रेस है और अगर आज उत्तर प्रदेश पिछड़ेपन, असुरक्षा और अराजकता का पर्याय बन गया है तो इसकी जिम्मेदार एसपी है.

ज़ाहिरा तौर पर विकल्प के रूप में उन्होंने भाजपा का दावा ये कहते हुए मजबूत दिखाने की कोशिश की कि बीते विधानसभा चुनावों में पांच में से चार राज्यों में जनता ने भाजपा को जिता कर संदेश स्पष्ट कर दिया है.

झाँसी, आगरा या देश के दूसरे अन्य शहरों की तरह मोदी की गोरखपुर रैली में भी जबरदस्त भीड़ जुटी.

"सबका मालिक एक"

अपनी चिरपरिचित शैली और शब्दों में मोदी ने गरीबी, बढ़ती महंगाई, घोटाले, वोट बैंक की राजनीति, भ्रष्टाचार और बेरोज़गारी जैसे मसलों पर कांग्रेस की आलोचना की. शायद इसीलिए सब कुछ के बावजूद उन्हें सुनने आए लोगों और सुर्खियाँ तलाशने आए ख़बरनवीसों को कुछ ख़ास न मिलने का मलाल नजर आ रहा था.

मगर मोदी को शुक्रगुजार होना चाहिए ढाई सौ किमी दूर बनारस में रैली कर रहे सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव का, जिन्होंने ये कहते हुए मोदी पर हमला बोला कि यूपी को गुजरात बनाने का मंसूबा पूरा नहीं होने देंगे.

मोदी के संचार प्रबंधकों ने ये खबर मोदी तक पहुंचाई और उसके बाद उन्होंने वही तेवर अख्तियार कर लिए जिसकी तलाश भीड़ बेसब्री से कर रही थी.

इमेज कॉपीरइट AP

मोदी ने पलटवार करते हुए सवाल किया, "नेता जी, गुजरात बनाने का मतलब जानते हैं आप? गुजरात बनाने का मतलब चौबीस घंटे बिजली देना है- हर गांव गली को बिजली देना है. कृषि विकास दर को दस फीसदी रखना है. सुरक्षा और विकास देना है."

उन्होंने व्यंगात्मक लहजे में कहा, "हम जानते हैं नेता जी, आप यूपी को कभी गुजरात नहीं बना पाओगे."

वोट बैंक की राजनीति के जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, "यहाँ सबका मालिक 'एक’ है. फिर स्पष्ट किया कि स-ब-का से मतलब सपा, बसपा और कांग्रेस है."

तकरीबन अड़तालीस मिनट के अपने भाषण में उन्होंने यहाँ के बंद पड़े खाद कारखानों, बंद चीनी मिलों, बेरोज़गारी और पिछड़ेपन के लिए सपा और कांग्रेस को जिम्मेदार बताते हुए साठ साल शासक को देने के बाद अब साठ महीने सेवक को देने की अपील की. मोदी ने कहा कि वह इस क़र्ज़ को ब्याज के विकास के साथ लौटाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार