सब आलाकमान, मेरी इच्छा बेमानी: विजय बहुगुणा

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के उत्तराखंड राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने कहा है कि उन्होंने पार्टी आलाकमान के आदेश पर इस्तीफ़ा दिया है और इस बात से कोई फ़र्क नहीं पड़ता है कि उनकी इच्छा ऐसा करने की थी या नहीं.

विजय बहुगुणा के दो वर्ष से भी कम के मुख्यमंत्री पद के कार्यकाल के दौरान ही राज्य को अब तक की सबसे भीषण प्राकृतिक आपदा का सामना करना पड़ा.

उन पर आपदा के बाद राहत और बचाव कार्यों में लापरवाही के आरोप भी लगे और इस कारण राज्य में कांग्रेस पार्टी की स्थिति पर असर पड़ रहा था.

माना जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी में बढ़ती गुटबाजी और प्रशासनिक अक्षमता के आरोपों के चलते ही उन्हें इस्तीफ़ा देने के लिए कहा गया.

'हम सैनिक हैं'

विजय बहुगुणा ने बीबीसी को बताया, "हम केन्द्रीय नेताओं के निर्णय को मानने के लिए बाध्य हैं. हमारे आलाकमान ने जो भी निर्णय किया है, हम उसका सम्मान करते हैं."

उन्होंने कहा, "मुझसे इस्तीफ़ा देने के लिए कहा गया और मैंने अपना इस्तीफ़ा दे दिया है."

उन्होंने कहा, "हम लोग सैनिक हैं. हम आदेश का पालन करते हैं. मन या बेमन इसमें कुछ नहीं होता है."

2012 के उत्तराखंड विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन के बाद मुख्यमंत्री पद के लिए मौजूदा केंद्रीय मंत्री हरीश रावत का नाम सबसे आगे बताया जा रहा था, लेकिन उनकी जगह विजय बहुगुणा को मुख्यमंत्री बनाया गया.

राजनीति

आपदा से निपटने में लापरवाही के आरोपों पर उन्होंने कहा, " कोई भी ऐसा आपदाग्रस्त परिवार नहीं है, जिसकी मानकों से बढ़कर सहायता नहीं की गई है. लेकिन ये संभव नहीं है कि बुनियादी ढांचे को जो नुकसान पहुंचा है, वो छह महीनों में ठीक हो जाए."

उन्होंने कहा कि इसके लिए करीब ढेड़ साल का समय लगेगा.

विजय बहुगुणा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी लोकसभा चुनावों में फ़ायदा पाने के लिए आपदा पर राजनीति कर रही है.

उन्होंने कहा, "मैं सिर्फ यही कह सकता हूं कि मैंने बचाव और पुनर्वास के लिए हर संभव काम किया. बुनियादी ढांचे को ठीक करने में समय लगेगा और इसके लिए भारत सरकार से सहायता मिल रही है."

असर नहीं

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि उनके इस्तीफ़े से राहत कार्यों पर असर नहीं होगा. उन्होंने कहा, "सरकार कांग्रेस की है. मंत्रिमंडल और अधिकारी वही हैं. पूरी योजना बन चुकी है. अब तो बस फ़ंड मिलना है और जैसे ही ठंड खत्म होगी काम शुरू हो जाएगा."

उनके इस्तीफ़े से आगामी लोकसभा चुनावों पर पड़ने वाले असर के बारे में विजय बहुगुणा ने कहा, "उत्तराखंड में कांग्रेस काफ़ी मजबूत है. संगठन और सरकार को मिलकर काम करना पड़ेगा और शेष निर्णय तो जनता करती है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार