छत्तीसगढ़: मुठभेड़ में तीन नक्सलियों, दो सुरक्षाकर्मियों की मौत

  • 9 फरवरी 2014
सुकमा में नक्सलियों द्वारा बिछाई गई बारुदी सुरंग की चपेट में आ कर सीआरपीएफ़ के डिप्टी कमांडेंट समेत दो जवानों के मारे जाने की ख़बर है
Image caption सुकमा में बारुदी सुरंग की चपेट में आ कर सीआरपीएफ़ के डिप्टी कमांडेंट समेत दो जवानों के मारे जाने की ख़बर है.

छत्तीसगढ़ में पुलिस ने बस्तर के बीजापुर ज़िले में तीन नक्सलियों को एक मुठभेड़ में मारने का दावा किया है. पुलिस ने इनके शव भी बरामद किये हैं.

एक अन्य घटनाक्रम में सुकमा में नक्सलियों द्वारा बिछाई गई बारुदी सुरंग की चपेट में आ कर सीआरपीएफ़ के डिप्टी कमांडेंट समेत दो जवानों के मारे जाने की ख़बर है. इस विस्फोट में बारह जवान गंभीर रुप से घायल हो गये हैं. इनमें से पांच घायलों को बेहतर इलाज के लिये राजधानी रायपुर लाये जाने की खबर है.

बीजापुर के पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल ने बताया, “महाराष्ट्र के गढ़चिरौली और बीजापुर ज़िला पुलिस ने संयुक्त अभियान चलाया था. इसी क्रम में ज़िले के बड़े काकलेर में नक्सलियों के साथ हमारी मुठभेड़ हो गई. मुठभेड़ के बाद हमें एक महिला कमांडर समेत तीन नक्सलियों के शव घटनास्थल से बरामद किये हैं.”

उन्होंने मौके पर पड़े ख़ून और दूसरे साक्ष्यों के आधार पर कुछ और नक्सलियों के भी मारे जाने की आशंका से इंकार नहीं किया है.

पुलिस ने मौके से बड़ी मात्रा में हथियार, विस्फोटक, नक्सली प्रचार सामग्री और रोज़मर्रा उपयोग की चीजें बरामद की हैं.

दो जवानों की मौत

इधर एक अन्य घटनाक्रम में सुकमा ज़िले के भेज्जी में तलाशी अभियान के दौरान सीआरपीएफ़ के डिप्टी कमांडेट निहाल आनंद और सीआरपीएफ़ के जवान राजीव रावत नक्सलियों द्वारा किये गए बारुदी सुरंग की चपेट में आ कर मारे गए.

Image caption सीआरपीएफ़ के लगभग 400 जवान सुकमा ज़िले के भेज्जी इलाके में नक्सलियों के ख़िलाफ़ तलाशी अभियान चला रहे थे

पुलिस सूत्रों के अनुसार सीआरपीएफ़ के लगभग 400 जवान सुकमा ज़िले के भेज्जी इलाके में नक्सलियों के ख़िलाफ़ तलाशी अभियान चला रहे थे. रविवार की सुबह नक्सलियों द्वारा एक बारुदी सुरंग में विस्फोट किया गया, जिसकी चपेट में कई जवान आ गये.

सीआरपीएफ़ के आईजी एच एस सिद्धु के अनुसार इस घटना में दर्जन भर जवान घायल हुये हैं. घायलों में सीआरपीएफ़ के सात जवान, एक डिप्टी कमांडेंट और राज्य पुलिस के चार जवान शामिल हैं.

इनमें से पांच जवानों को इलाज के लिये राजधानी रायपुर के लिये रवाना किया गया है.

अभियान

बस्तर के सुकमा, बीजापुर, दंतेवाड़ा, नारायणपुर, कांकेर, कोंडागांव और बस्तर ज़िले में पिछले कुछ समय से पुलिस ने नक्सलियों के ख़िलाफ़ जोर-शोर से अभियान चला रखा है. जिसमें पुलिस-नक्सली मुठभेड़ की घटनाओं के अलावा स्थानीय स्तर पर नक्सली समर्थकों की गिरफ़्तारी की घटनाओं में भी वृद्धि हुई है.

बस्तर के अलग-अलग ज़िलों में विभिन्न सुरक्षाबलों के 32 हज़ार से अधिक जवान तैनात हैं. पिछले महीने ही केंद्र सरकार ने 6 हज़ार अतिरिक्त जवानों की तैनाती छत्तीसगढ़ में की है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार