पुलिस के साथ मुठभेड़ में सात माओवादी मारे गए

झड़प में नक्सली मारे गए इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मारे गए लोगों में महिलाएं भी शामिल हैं

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली ज़िले की कोरची तहसील में घने जंगलों में सोमवार देर रात पुलिस और माओवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में सात माओवादी मारे गए हैं.

पुलिस इसे गढ़चिरौली ज़िले में नक्सली कार्रवाईयों के ख़िलाफ़ अपनी बडी उपलब्धि बता रही है. यह गढ़चिरौली तथा गोंदिया पुलिस की साझा कार्रवाई थी.

मरने वाले माओवादियों में पांच पुरुष और दो महिलाएं शामिल हैं. माओवादियों की तरफ़ से इस घटना के बारे में फ़िलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है.

गढ़चिरौली के पुलिस उपमहानिरिक्षक रविंद्र कदम ने बीबीसी हिंदी से बातचीत में बताया, ''सात माओवादियों ने 16 तारिख़ को खुर्सापार गांव में पंचायत में घुसकर कुछ काग़ज़ात जलाए थे. जिसके बाद हमने उनकी तलाश में चार टीमें कोरची तहसील के अलग-अलग इलाक़ों में भेजी थीं.''

हथियार भी बरामद

पुलिस का कहना है कि माओवादियों को जब आत्मसमर्पण करने को कहा गया, तो उन्होंने पुलिस पर गोलीबारी शुरू की, जिसके जबाव में पुलिस ने की गोलीबारी में सात माओवादी मारे गए.

कदम के अनुसार मौक़े से सात हथियार भी बरामद किए है.

मुठभेड़ में मारे गए छह माओवादियों की पहचान हो चुकी है. मरने वालों में नॉर्थ गढ़चिरौली-गोंदिया डिविज़नल कमेटी मेंबर लालसू, लगीन, प्लाटून क्रमांक 56 का कमांडर उमेश, वीरू तथा चमको और रुन्नीबाई यह दो महिला माओवादी शामील हैं, एक की शिनाख़्त होनी अभी बाक़ी है.

मौक़े से पुलीस ने एक एके-74, दो एसएलआर, एक कार्बाईन, एक 303 बंदूक़, एक 12 बोअर बंदूक़ और एक पिस्तौल बरामद किया.

कदम ने बताया कि कोरची तहसील में पिछले सात महीनों से कोई भी माओवादी गतिविधी नहीं थी.

उनके अनुसार, “खुर्सापार ग्राम पंचायत के काग़ज़ात जलाना एक प्रयास था जिससे की माओवादी अपनी दहशत फिर से क़ायम कर सकें. मुठभेड़ के बाद, पुलीस टीमें पुरे इलाक़े में सघन अभियान शुरू कर दिया है.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार