जज को 'पीटने वाले' सीएसपी की संदिग्ध हालत में मौत

  • 25 फरवरी 2014
छत्तीसगढ़ पुलिस अधिकारी देव नारायण अपने परिवार के साथ (फाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट OTHER

छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में एक युवा पुलिस अधिकारी देवनारायण पटेल और उनकी पत्नी की मौत की न्यायिक जांच के आदेश दिए गए हैं.

जगदलपुर के नगर पुलिस अधीक्षक देवनारायण पटेल और उनकी पत्नी प्रतिमा के शव उनके घर से सोमवार की देर रात बरामद किए गए थे.

एक स्थानीय न्यायाधीश की कथित पिटाई के आरोप में देवनारायण पटेल को सोमवार को ही निलंबित किया गया था.

पटेल की 11 साल की बेटी और छह साल का बेटा घायल अवस्था में मिला. दोनों बच्चों को बेहतर इलाज के लिए रायपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

पढ़ें: बस्तर में सियासी दल करा रहे हैं बीमा

संदिग्ध हालात में मौत

हालांकि अभी ये साफ़ नहीं है कि पटेल की मौत किन परिस्थितियों में हुई लेकिन पुलिस और सरकार के बयान अलग-अलग आ रहे हैं.

छत्तीसगढ़ के गृह मंत्री रामसेवक पैकरा ने कहा, "किन परिस्थितियों में और किन दबावों में देवनारायण पटेल ने आत्महत्या की, यह तो जांच के बाद पता चलेगा, लेकिन हमने एक होनहार पुलिस अधिकारी को खो दिया."

लेकिन पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि अभी पटेल की मौत को आत्महत्या कहना ठीक नहीं है.

बस्तर के पुलिस महानिरीक्षक अरुण देव गौतम ने कहा, "इस मामले की पुलिस और मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए गए हैं. जांच के बिना इस बारे में कुछ भी नहीं कहा जा सकता कि उनकी मौत किन हालात में हुई. इसे अभी आत्महत्या भी नहीं कहा जा सकता."

इमेज कॉपीरइट OTHER

पढ़ें: अपने ही ख़िलाफ़ सीबीआई जांच की मांग!

पिटाई का आरोप

बस्तर के ज़िला मुख्यालय जगदलपुर में रविवार की शाम को स्थानीय अदालत के न्यायाधीश ए. टोप्पो अपने घर लौट रहे थे. टोप्पो का आरोप है कि ट्रैफिक जाम होने की वजह से वो अपनी कार में बैठे हुए थे, उसी समय देवनारायण पटेल अपने सिपाहियों के साथ पहुंचे और जाम के लिए ज़िम्मेदार बताने पर दोनों के बीच बहस हुई.

टोप्पो ने आरोप लगाया था कि इसके बाद नगर पुलिस अधीक्षक देवनारायण पटेल ने उनकी जम कर पिटाई कर दी और इस पिटाई में उनके कपड़े भी फट गये.

इस घटना को लेकर सोमवार को बस्तर में गहमागहमी बनी रही. अदालत में वकीलों और सरकारी कर्मचारियों ने पुलिस के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया और क़लमबंद हड़ताल भी की.

इसके बाद सोमवार की शाम छत्तीसगढ़ के प्रभारी पुलिस महानिदेशक एएन उपाध्याय ने नगर पुलिस अधीक्षक देवनारायण पटेल को निलंबित कर दिया था.

पुलिस का कहना है कि देर रात एक बजे के आसपास देवनारायण पटेल के निवास में गोली चलने की आवाज़ सुनकर जब पड़ोसी पहुंचे तो उन्होंने देखा कि पटेल और उनकी पत्नी ख़ून से लथपथ थे. वहीं उनके दोनों बच्चे भी घायल पड़े हुये थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार