ओडिशा: पति-पत्नी के बीच 'चुनावी मुक़ाबला'

  • 15 मार्च 2014
हेमा गमांग
Image caption बीजद सूत्रों के अनुसार हेमा को कोरापुट लोकसभा क्षेत्र से पार्टी का उम्मीदवार बनाया जायेगा.

ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता गिरिधर गमांग की पत्नी हेमा गमांग आज सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) में शामिल हो गई हैं.

बीजद सूत्रों के अनुसार हेमा को कोरापुट लोकसभा क्षेत्र से पार्टी का उम्मीदवार बनाया जायेगा.

'दिलचस्प मुक़ाबला'

यहीं से उनके पति गिरिधर कांग्रेस के उम्मीदवार हैं. पति- पत्नी के बीच यह लड़ाई इस चुनाव के सबसे दिलचस्प मुक़ाबलों में एक होगी.

हालाँकि हेमा की उम्मीदवारी के बारे में आधिकारिक घोषणा होनी अभी बाकी है लेकिन बीजद सूत्रों के अनुसार अब यह केवल औपचारिकता है.

बीजद में शामिल होने के बाद खुद हेमा ने स्पष्ट किया कि वे कोरापुट लोकसभा क्षेत्र से बीजद की ओर से चुनाव लड़ना चाहती हैं.

हेमा ने कहा कि उन्होंने अपना इस्तीफ़ा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज दिया है. अपने इस्तीफ़े में उन्होंने कहा है, "पार्टी के राज्य नेतृत्व ने मुझे अपमानित किया है. इस कारण मैं पार्टी छोड़ रही हूँ."

पत्र में उन्होंने राज्य कांग्रेस अध्यक्ष जयदेव जेना की कड़ी आलोचना की है.

'मुश्किलें आसान'

हेमा के पार्टी में आने से कोरापुट लोकसभा क्षेत्र को लेकर बीजद अध्यक्ष नवीन पटनायक की मुश्किलें काफी हद तक आसान हो गईं हैं.

इस चुनाव क्षेत्र के बीजद सांसद जयराम पांगी ने सेहत ठीक न होने की बात कहकर इस बार चुनाव न लड़ने की इच्छा ज़ाहिर की थी.

इसके बाद यहाँ से पार्टी की उमीदवारी को लेकर बीजद अध्यक्ष दुविधा में थे. पांगी के स्थान पर उनके बेटे अशोक पांगी को टिकट देने की ख़बर फैलने के बाद ज़िला बीजद में बगावत की स्थिति पैदा हो गई थी.

बीजद को उम्मीद है कि अब हेमा को टिकट मिलने से पार्टी में विद्रोह ख़त्म होगा. हेमा के बीजद में जाने के बारे भनक लगने के बाद गिरिधर और उनके कुछ क़रीबी लोगों ने कल देर रात तक उन्हें मनाने की कोशिश की.

मगर अंत में ये कोशिशें नाकाम साबित हुईं.

दिलचस्प बात यह है कि हेमा के बीजद में आने के पीछे जयराम पांगी का हाथ बताया जा रहा है. आज सुबह जब वह नवीन से मिलने उनके निवास पहुंचीं, तो जयराम उनके साथ थे.

गौरतलब है कि लगातार नौ बार कोरापुट से चुने जाने के बाद गिरिधर गमांग 2009 के चुनाव में जयराम के हाथों पराजित हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार