जसवंत सिंह भाजपा से निष्कासित

  • 29 मार्च 2014
इमेज कॉपीरइट PTI

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह को पार्टी ने छह साल के निष्कासित कर दिया है. जसवंत सिंह ने पिछले दिनों राजस्थान की बाड़मेर सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन किया था. पार्टी की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि पार्टी के घोषित उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ने के कारण उन्हें निष्कासित किया जा रहा है.

जसवंत सिंह के साथ ही भाजपा ने एक अन्य नेता सुभाष महेरिया को भी पार्टी से छह वर्षों के लिए निष्कासित कर दिया. सुभाष महेरिया ने भी राजस्थान की सीकर सीट से पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार के खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन दाखिल किया है.

पार्टी के वरिष्ट नेता प्रकाश जावडेकर ने बीबीसी के साथ बातचीत में कहा कि पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी के खिलाफ़ चुनाव लड़ना अनुशासनहीनता है और इसी वजह से जसवंत सिंह को निष्कासित किया गया है.

टिकट बंटवारे से पहले जसवंत सिंह ने बाड़मेर से चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की थी और कहा था कि वे अपनी ज़िंदगी का आखिरी चुनाव अपने पैतृक स्थान से लड़ना चाहते हैं, लेकिन बीजेपी ने कांग्रेस से आए नेता सोनाराम चौधरी को टिकट दे दिया.

इसी से नाराज़ जसवंत सिंह ने बाड़मेर से निर्दलीय चुनाव लड़ने का फ़ैसला किया था.

इससे पहले जसवंत सिंह के नामांकन पर बीजेपी ने कहा था कि वह नाम वापस लेने की तारीख तक जसवंत सिंह का इंतजार करेगी. अगर उन्होंने उम्मीदवारी से नाम वापस नहीं लिया तो उनके ऊपर कार्रवाई पर विचार किया जाएगा.

आखिरी दिन

इमेज कॉपीरइट AP

शनिवार को नाम वापसी का आख़िरी दिन था और जसवंत सिंह निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने पर अडिग रहे , इसलिए पार्टी ने देर शाम उन्हें निष्कासित करने का फ़ैसला सुनाया.

गत 24 मार्च को बाड़मेर से पर्चा दाख़िल करने के बाद जसवंत सिंह ने कहा था, "मुझसे पार्टी के किसी भी नेता ने संपर्क नहीं किया है और मैं पार्टी के रवैये से नाराज़ हूं. मैं जनता के आदेश पर चुनाव लड़ रहा हूँ."

राजनीतिक प्रेक्षक इसे मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और जसवंत सिंह के बीच वर्चस्व और व्यक्तित्व की लड़ाई के रूप में देख रहे है. नामांकन दाखिल करने के बाद जसवंत सिंह ने साफ़तौर पर ये कहा भी था कि पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह और वसुंधरा राजे ने उनके साथ धोखा किया है.

कभी भाजपा के शीर्ष नेताओ में शुमार किए जाने वाले जसवंत सिंह को पार्टी ने बाड़मेर से लोकसभा का टिकट देने से इनकार कर दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)