सितारे चुनावी ज़मीन पर

  • 3 अप्रैल 2014
गुल पनाग, अरविंद केजरीवाल इमेज कॉपीरइट Reuters

अप्रैल का महीना शुरू हो चुका है. भले ही देश में गर्मी ने अपना पूरा ज़ोर दिखाना शुरू ना किया हो लेकिन चुनावी गर्मी अपने पूरे शबाब पर है. और अब बॉलीवुड भी इससे अछूता नहीं है.

कभी राजनीति से दूर भागने वाला मनोरंजन जगत अब इससे हाथ मिलाने को तैयार है. कई कलाकार सोशल मीडिया पर चुनावी माहौल पर चर्चा कर रहे हैं तो कुछ ने सीधे इस चुनावी अखाड़े में कूदने का फ़ैसला कर लिया है. एक नज़र ऐसी ही कुछ अभिनेताओं पर जिन्होंने नेता बनने की ठान ली है.

किरण खेर

इमेज कॉपीरइट AFP

किरण खेर हिंदी फ़िल्मों में चरित्र भूमिकाएं और कॉमेडी रोल करने के लिए मशहूर हैं. उन्हें बेहतरीन अभिनय के लिए दो बार राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिल चुका है.

किरण खेर ने भारतीय जनता पार्टी से साल 2009 में अपना नाता जोड़ा और पार्टी के समर्थन में प्रचार करना शुरू कर दिया.

राजनीति से जुड़ने की वजह बताते हुए उन्होंने बीबीसी से कहा, "मुझे राजनीतिक माध्यम पसंद है क्योंकि ये मुझे मौक़ा देता है अपने आप को अभिव्यक्त करने के लिए. मैंने 15 साल तक टीवी पर लोक सभा की बहस देखी है."

हालांकि बीबीसी से कुछ दिनों पहले हुई इस मुलाक़ात में किरण ने साफ़ कहा था कि उन्हें चुनाव लड़ने में कोई दिलचस्पी नहीं है. लेकिन अब वो बड़ी शान से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चंडीगढ़ से ना सिर्फ़ चुनाव लड़ रही हैं बल्कि ज़ोर-शोर से प्रचार भी कर रही हैं.

बप्पी लाहिड़ी

इमेज कॉपीरइट AFP

70 और 80 के दशक के जाने-माने संगीतकार बप्पी लाहिड़ी भी बड़े उत्साह से राजनीति के समंदर में डुबकी लगाने के लिए तैयार हैं.

बप्पी, भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर पश्चिम बंगाल के श्रीरामपुर से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं.

वो कहते हैं, "चुनावी अखाड़े में मैं तो बहुत देरी से आया. मुझसे पहले अमिताभ बच्चन जी, विनोद खन्ना, शत्रुघ्न सिन्हा, हेमा मालिनी जी राजनीति में क़िस्मत आज़मा चुके हैं. हम फ़िल्म तो करते ही रहेंगे, पर देश की सेवा करनी भी ज़रूरी है. राजनीति तब तक बुरी नहीं है जब तक आपने कोई घपला नहीं किया हो और हम फ़िल्म स्टार्स की काफ़ी फ़ेस वैल्यू होती है."

राखी सावंत

इमेज कॉपीरइट AFP

राखी सावंत ने टीवी पर कई साल धमाका करने के बाद अब राजनीति का रुख़ किया.

वो भारतीय जनता पार्टी के नेता राजनाथ सिंह से भी मिली और मुस्कुराकर फ़ोटो खिंचाए. चुनाव लड़ने में दिलचस्पी भी साफ़ ज़ाहिर की. नरेंद्र मोदी की जमकर तारीफ़ की और अरविंद केजरीवाल के खिलाफ़ तीखी बयानबाज़ी की.

लेकिन बात नहीं बनी. भारतीय जनता पार्टी से जब उन्हें टिकट नहीं मिला तो अपनी ही एक पार्टी बना डाली जिसका नाम दिया राष्ट्रीय आम पार्टी और चुनावी मैदान में कूदने का ऐलान कर डाला.

(कितनी अमीर हैं राखी ?)

वो उत्तर-पश्चिम मुंबई से लोकसभा चुनाव लड़ रही हैं.

राखी दावा करती हैं कि वो इस इलाक़े के लिए बरसों से काम करते आ रही हैं और उन्हें वहां की जनता का भरपूर समर्थन है.

राजनीति में उतरने के बाद राखी ने ऐलान कर दिया है कि वो फ़िल्मों में आइटम सॉन्ग कतई नहीं करेंगीं.

बाबुल सुप्रियो

इमेज कॉपीरइट Babul supriyo
Image caption गायक बाबुल सुप्रियो, भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर आसनसोल से चुनाव लड़ रहे हैं.

फ़िल्म 'कहो ना प्यार है' से अपने गायन करियर का सुपरहिट आग़ाज़ करने वाले बाबुल सुप्रियो पश्चिम बंगाल के आसनसोल से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं.

बाबुल का मानना है, "संगीत और राजनीति दोनों समान हैं. संगीत लोगों के दिलों को सुकून पहुंचाता है और राजनीति में आकर हम लोगों की तक़लीफ़ें दूर कर सकते हैं."

बॉलीवुड में गायन के सवाल पर बाबुल कहते हैं, "मीका और हनी सिंह जैसे गायकों के आ जाने से और रॉयल्टी के विवाद की वजह से अब गायकों का काम बहुत कम मिल रहा है. इसलिए वो अब दूसरी जगह अपना हाथ आज़मा रहे हैं लेकिन मेरे राजनीतिक सफ़र को पेशे का नाम ना दें क्योंकि राजनीति मेरी रोज़ी रोटी नहीं है."

उन्होंने ये भी कहा कि जो वादे वो लोगों से कर रहे है अगर उन्हें पूरा करने नहीं दिया गया तो वो राजनीति छोड़ देंगे.

मुन मुन सेन

इमेज कॉपीरइट Moon Moon Sen
Image caption अभिनेत्री मुन मुन सेन तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर पश्चिम बंगाल के बांकुरा से चुनाव लड़ रही हैं.

गुज़रे ज़माने की मशहूर अभिनेत्री सुचित्रा सेन की बेटी अभिनेत्री मुन मुन सेन ने मार्च में तृणमूल कांग्रेस से अपना नाता जोड़ा और लोक सभा चुनाव में वो पश्चिम बंगाल के बांकुरा से चुनाव लड़ेंगी.

इसके अलावा गुल पनाग, परेश रावल, महेश मांजरेकर, रवि किशन और जावेद जाफ़री जैसे सितारे भी चुनावी समर में कूद पड़े हैं. हेमा मालिनी तो पहले से ही राजनीति के मैदान में सक्रिय है.

वैसे बॉलीवुड सितारों को राजनीति रास ही आ जाए ऐसा भी नहीं है.

इससे पहले अमिताभ बच्चन और धर्मेंद्र जैसे बड़े सितारों ने राजनीति में पैर जमाने की कोशिश की और चुनाव में भी विजय पाई लेकिन वो स्थापित राजनेता नहीं बन पाए और जल्द ही राजनीति को अलविदा कह दिया.

इतिहास देखें तो ऐसे कई सितारे हैं जिन्हें राजनीति रास नहीं आई और हमेशा के लिए उन्होंने राजनीति को अलविदा कह दिया.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार