छत्तीसगढ़: दो माओवादी हमलों में 15 लोगों की मौत

छत्तीसगढ़ इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption छत्तीसगढ़ में एक बड़ा इलाका माओवादी हिंसा से ग्रस्त

छत्तीसगढ़ में माओवादियों के दो अलग-अलग हमलों में 15 लोगों के मारे जाने की खबर है.

पहला हमला बीजापुर ज़िले में मतदान दल पर हुआ है, जिसमें सात लोग मारे गये हैं. जबकि दूसरा हमला बस्तर के दरभा के पास स्वास्थ्य विभाग के एंबुलेंस पर हुआ है, जिसमें सीआरपीएफ के छह जवानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई है.

पुलिस प्रवक्ता दिपांशु काबरा ने बताया, "बीजापुर के थाना कुटरु अंतर्गत ग्राम केतुलनार के पास एक मतदान दल बस में बैठ कर लौट रहा था. एक तालाब के पास माओवादियों ने पहले से बम लगा रखा था, जिसकी चपेट में मतदान दल का वाहन आ गया."

इस विस्फोट में अभी तक सात लोगों के मारे जाने की खबर है, जबकि कुछ लोग घायल भी हुए हैं.

पुलिस के अनुसार राजस्थान ट्रैवल्स की बस क्रमांक 'सीजी 17 के 0321' में मतदान कराने गए दो दल के लोग बेस कैंप से लौट रहे थे. दस अप्रैल को मतदान के बाद उन्हें पास के ही पुलिस कैंप में ठहराया गया था. शनिवार दोपहर उन्हें जगदलपुर के लिए रवाना किया गया था.

हिंसा

एक दूसरी घटना में दरभा के पास तामनार में स्वास्थ्य विभाग के एंबुलेंस 'संजीवनी 108' पर भी माओवादियों ने हमला किया है, जिसमें सीआरपीएफ के छह जवान मारे गये हैं.

पुलिस का कहना है कि कांगेर नेशनल पार्क से लगे हुए राष्ट्रीय राजमार्ग पर दरभा के पास तामनार में स्वास्थ्य विभाग के खाली एंबुलेंस से सीआरपीएफ की 80वीं बटालियन के जवानों ने लिफ्ट ली थी.

इस एंबुलेंस में दस लोग सवार थे. एंबुलेंस जैसे ही दरभा से जगदलपुर के लिये रवाना हुई, दरभा-बागलाफड़ा मोड़ के पास बारुदी सुरंग की चपेट में आ गयी.

आशंका है कि रास्ते में पहले से बिछाए गए बारुदी सुरंग में विस्फोट किया गया.

विस्फोट इतना शक्तिशाली था कि एंबुलेंस के परखच्चे उड़ गये और मौके पर ही छह जवान मारे गये. इसके अलावा एंबुलेंस में सवार टेक्निशियन और ड्राइवर की भी मौत हो गई.

इमेज कॉपीरइट GAURAV

विस्फोट के कारण एंबुलेंस का इंजन 15 मीटर दूर जा गिरा.

ज़िले के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अजय यादव का कहना है कि सड़क पर पहले से ही बारुदी सुरंग लगी हुई थी.

गौरतलब है कि दस अप्रैल को बस्तर में लोकसभा का मतदान हुआ था. इस दौरान सात स्थानों पर माओवादियों ने गोलीबारी की थी और कुछ स्थानों पर आईईडी विस्फोट किए गए थे, जिसमें कुछ लोग घायल हुये थे.

बीजापुर, दंतेवाड़ा और सुकमा के कई इलाकों में सुरक्षाबल और माओवादियों के बीच मुठभेड़ की घटनाएं सामने आई थी. सुरक्षाबल ने दंतेवाड़ा और सुकमा में कई जगहों से विस्फोटक बरामद किये. इन इलाकों में कई जगहों पर माओवादियों ने सड़कों पर यातायात बाधित करने की कोशिश भी की.

मतदान के लिये जो दल अलग-अलग इलाकों में गया था, उनकी वापसी का सिलसिला शनिवार को भी जारी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार