पीएम की ज़िम्मेदारी से नहीं भागूंगाः राहुल गांधी

राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट AFP

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की निजी टीवी चैनल आज तक से ख़ास बातचीत में कहा कि यदि सांसद चुनें तो वो प्रधानमंत्री पद की ज़िम्मेदारी से पीछे नहीं हटेंगे.

वरिष्ठ पत्रकार जावेद अंसारी को दिए गए इस साक्षात्कार में उन्होंने कहा, '' यदि हमारे सांसद मुझे चुनते हैं तो, मैं जिम्मेदारी से नहीं हटने वाला.''

उन्होंने भाजपा की ओर प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, ''अगर मैं कहूं कि मैं हिंदुस्तान का प्रधानमंत्री बनना चाहता हूं या बन गया तो उनकी इज़्ज़त नहीं. मैं एक प्रकार से नौकर हूं, हिंदुस्तान का नौकर हूं और मैं अपनी जनता के लिए काम करता हूं.''

''गुजरात जब खड़ा हुआ था तो वो छोटे उद्योगों पर खड़ा हुआ था. अमूल जैसे कोऑपरेटिव मूवमेंट पर खड़ा हुआ था और उसकी वो ताकत है. आप अब गुजरात मॉडल को देखें तो एक व्‍यक्ति के बिजनेस का टर्नओवर 3000 करोड़ से बढ़कर 40,000 करोड़ पहुंच गया.''

राहुल ने भ्रष्टाचार के मसले पर भाजपा को कटघरे में खड़ा किया और कहा, ''भाजपा के घोषणापत्र में एक लाइन भी नहीं है कि वे भ्रष्टाचार को लेकर क्‍या करेंगे? ''

मैं नहीं, मोदी दंगों में शामिल: राहुल गांधी

मोदी पर निशाना

इमेज कॉपीरइट Getty

उन्होंने कहा, '' हमारी सरकार का सबसे बड़ा काम सूचना का अधिकार था. हमने लोगों को सवाल करने की शक्ति दी, इससे भ्रष्‍टाचार बाहर आया है और ये सच्‍चाई है. हम लोकपाल बिल लाए. सबसे बड़ा भ्रष्‍टाचार जमीन में होता है, हम जमीन अधिग्रहण बिल लेकर आए. बोलना अलग होता है, काम करना अलग होता है.''

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ''आम तौर पर हर प्रचार अभियान में भाजपा के प्रचार का शोर ज़्यादा होता है. आप किसी भी प्रचार अभियान को देख लें उनकी आवाज ज़्यादा होती है, मगर जब परिणाम आता है तो बात दूसरी होती है.

'' ओपिनियन पोल 2004 में कह रहे थे कि कांग्रेस पार्टी हारेगी, इंडिया शाइनिंग का मार्केटिंग कैंपेन था. 2009 में भी ओपिनियन पोल में यही कहा गया और रिजल्‍ट दूसरा ही निकला.''

''मोदी एक व्यक्ति हैं, उनके कुछ निजी मामले हैं और उन मामलों में हमें कोई दिलचस्पी नहीं. मगर वो एक खास तरह की सोच के नुमाइन्दा हैं. गुजरात में मोदी के अपने आर्थिक विचार हैं, ये विचार हैं दो-तीन व्यक्तियों को प्रदेश का पूरा धन दे दो. ये सोच भी हिंदुस्तान के लिए खतरनाक है. मै ऐसे विचारों के खिलाफ ही लड़ता हूं ''

उन्होंने कहा, ''हमने 10 साल सरकार चलाई, विकासदर तेज रही, सड़के ज्यादा बनीं, बिजली हमने ज्यादा दी, 15 करोड़ लोगों को हमने गरीबी रेखा से बाहर निकाला.''

विपक्ष 3000 वर्षों की सोच नहीं मिटा पाएगा: राहुल गांधी

राहुल योजना

इमेज कॉपीरइट Reuters

विकास के मुद्दे पर राहुल ने कहा, ''लोगों को विकास की प्रक्रिया में भागीदार बनाना होगा, लोग सड़कें नहीं खाते, इसलिए हम उनके अधिकार की बात करते हैं और भोजन की गारंटी की बात करते हैं.''

''हम मैन्युफैक्‍चरिंग कॉरिडोर की बात कर रहे हैं. बिजली-पानी, पूरा इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर, पूरा डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर. इसके लिए हमने जापान से साथ गठजोड़ किया है. इससे लोगों को करोड़ों रोजगार मिलेंगे. मैं अपने भाषणों में कहता हूं, आजकल मेड इन चाइना होता है, हम चाहते हैं कि मेड इन इंडिया हो.''

राहुल ही नहीं उनकी पार्टी को भी उम्मीद है कि मेड इन इंडिया की ये संकल्पना सत्ता में उनकी दोबारा वापसी के दरवाज़े खोल सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार