इस्तीफ़ा देते वक्त लगा था कि जल्द ही चुनाव होंगे: केजरीवाल

  • 14 अप्रैल 2014
इमेज कॉपीरइट GOOGLE

आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि मुख्यमंत्री के पद से त्यागपत्र देते वक़्त उन्हें लगा था कि आने वाले महीने डेढ़ महीने में फिर से चुनाव हो जाएंगे और उन्हें अधिक सीटें हासिल होंगी.

उन्होंने कहा कि वो जनता को संदेश देना चाहते थे कि अब 28 सीटों से काम नहीं चलेगा और अगर जनता चाहती है कि आप की सरकार दिल्ली में आए तो जनता को हमें 50 सीटें देनी होंगी.

अरविंद केजरीवाल ने फिर से दोहराया है कि उन्होंने इस्तीफ़ा देने में जल्दबाज़ी की और उनकी दूसरी ग़लती थी त्यागपत्र देने से पहले लोगों से इस बारे में विचार विमर्श न करना.

'कोई चारा नहीं था'

दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री ने ये बात टीवी चैनल सीएनएनआईबीएन के गूगल हैंगआउट के दौरान कही. उनसे एक व्यक्ति ने सवाल पूछा था कि लोगों के भीतर ये भावना है कि आप भगोड़े हैं और जिम्मेदारियों का निर्वाह नहीं करना चाहते.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब लोकपाल के मामले पर कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी मिल गए तो उन्हें लगा कि उनके पास कोई चारा नहीं बचा है और उन्होंने इसलिए त्यागपत्र दे दिया.

उनका कहना था कि लोग उम्मीद नहीं कर रहे थे कि वो इस्तीफ़ा दे देंगे इसलिए लोगों में नाराज़गी है. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर वो त्यागपत्र देने से पहले जनता की राय ले लेते तो शायद ये भावना इतनी तीव्र नहीं होती.

मगर उनका कहना था कि उन्हें लगा था कि त्यागपत्र देने के कुछ ही दिनों में फिर से चुनाव होंगे जिसमें वो बेहतर सीटों के साथ विधानसभा में आएंगे.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 49 दिनों की सरकार ने इतना काम किया है कि उनके आलोचक भी मान रहे हैं कि उन्होंने बहुत बेहतर काम किया.

'मोदी फार पीएम वाले नाराज़ हैं'

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने अपने फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि कुर्सी छोड़ना आसान काम नहीं है और उन्होंने जो किया वो त्याग था और जनता उनकी सरकार के छोटे कार्यकाल से ही इस क़दर खुश थी कि अब बीजेपी और कांग्रेस डर से चुनाव ही नहीं होने दे रही है.

जब चैनल के संपादक राजदीप सारदेसाई ने अरविंद केजरीवाल से कहा कि वो कांग्रेस और बीजेपी पर इस तरह का आरोप कैसे लगा सकते हैं जबकि मामला सुप्रीम कोर्ट में है तो आप के नेता का कहना था कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट कोई और नहीं बल्कि उनकी पार्टी लेकर गई है.

और दोनों राजनीतिक दल सुप्रीम कोर्ट के छोटे छोटे सवालों का जवाब देने में महीनों का समय ले रहे हैं.

अरविंद केजरीवाल का कहना था कि एक वर्ग जो कमजोर आर्थिक तबक़े से ताल्लुक रखता है अब भी उनके समर्थन में है लेकिन वो वर्ग जो ये सोच रहा था कि केजरीवाल फॉर सीएम और मोदी फॉर पीएम वो आप से नाराज है क्योंकि वो नरेंद्र मोदी के खिलाफ लड़ रहे हैं.

'मुख्तार अंसारी से समर्थन नहीं'

इमेज कॉपीरइट Getty

उन्होंने कहा कि मोदी के खिलाफ या राहुल गांधी के खिलाफ आप के लड़ने का मतलब सत्ता में पहुंचना नहीं है बल्कि इससे एक संदेश देना है.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सोचें अगर मोदी वाराणसी से और राहुल गांधी अमेठी से चुनाव हार जाते हैं!

आप नेता ने साफ़ किया कि वो क़ौमी एकता दल के नेता मुख़्तार अंसारी से किसी भी तरह का राजनीतिक सहयोग नहीं लेंगे.

उनका कहना था कि वैसे भी न तो मुख्तार अंसारी से उनसे किसी तरह की कोई बातचीत नहीं हुई है.

मुख़्तार अंसारी पर हत्या के एक मामले में मुक़दमा चल रहा है और वो जेल में हैं.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार