आज़मगढ़ पर अमित शाह के बयान से बढ़ा विवाद

अमित शाह इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर प्रदेश में आठवें और नौवें चरण के मतदान की तारीख़ करीब आने के साथ ही नेताओं के बीच चुनावी जंग काफ़ी तीखी होती जा रही है. अमित शाह के आज़मगढ़ को 'आतंकवाद का अड्डा' कहने पर सपा ने कड़ी प्रतिक्रिया दी. तो वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने चुनाव आयोग से उनके ऊपर प्रतिबंध लगाने की माँग की है.

नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाने वाले अमित शाह ने रविवार को एक चुनावी सभा के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना करते हुए कहा था कि वीरों की भूमि आज़मगढ़ उसने 'आतंकवाद का अड्डा' बना दिया है.

वो आज़मगढ़ से भाजपा प्रत्याशी रमाकांत यादव के लिए चुनाव प्रचार कर रहे थे. यहां से सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव भी चुनावी मैदान में हैं.

भाजपा के उत्तर प्रदेश के चुनाव प्रभारी अमित शाह ने कहा, "गुजरात में बम धमाकों के अभियुक्त भी आज़मगढ़ से हैं, मैंने गृहमंत्री होने के नाते उनको गिरफ़्तार करवाया, उसके बाद से गुजरात में एक भी आंतकवादी घटना नहीं हुई है."

'यूपी में प्रवेश पर लगे प्रतिबंध'

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption मायावती ने चुनाव आयोग से अमित शाह के यूपी में प्रवेश पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की माँग की है.

उत्तर प्रदेश में सत्ताधारी समाजवादी पार्टी (सपा) के वरिष्ठ नेता सीपी राय ने कहा, "इस तरह की टिप्पणी आज़मगढ़ का अपमान है. भाजपा चुनाव जीतने के लिए माहौल को सांप्रदायिक बनाना चाहती है. चुनाव आयोग को शाह के वक्तव्य का संज्ञान लेकर उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई करनी चाहिए. हालांकि चुनाव आयोगएक बार उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई कर चुका है, लेकिन उन्होंने अपना तरीका नहीं बदला है."

इस रैली में सपा और बसपा सुप्रीमो पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा था कि अगला प्रधानमंत्री होने का दावा करने वाले मुलायम और मायावती का उत्तर प्रदेश के बाहर कोई जनाधार नहीं है.

अमित शाह के आजमगढ़ के ख़िलाफ़ विवादास्पद बयान की बयान की कटु आलोचना करते हुए मायावती ने कहा, "चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करने वाले इस तरह के बयानों से आज़मगढ़ और पूर्वी उत्तर प्रदेश में क़ानून और व्यवस्था की स्थिति बिगड़ सकती है."

उन्होंने कहा, "गुजरात को सांप्रदायिकता और अपराध का गढ़ कहा जा सकता है. मैं चुनाव आयोग से शाह को उत्तर प्रदेश में प्रवेश पर पूर्ण प्रतिबंधित करने की माँग करती हूं."

उन्होंने समाजवादी पार्टी के नेता अबू आज़मी द्वारा हाल ही में एक मीटिंग के दौरान 'डीएन वाले बयान' का चुनाव आयोग द्वारा संज्ञान लेने की बात भी कही.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार