हम किसी राजनीतिक पार्टी से नहीं डरते: आयोग

बनारस में मोदी इमेज कॉपीरइट SANJAY GUPTA

भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की बनारस रैली पर विवाद इतना बढ़ा कि चुनाव आयोग पर सवाल खड़े किए जाने लगे.

इन सवालों का जवाब देने के लिए चुनाव आयोग ने दिल्ली में एक प्रेस कांफ्रेंस के जरिए अपना पक्ष स्पष्ट किया है.

मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस संपत ने प्रेस कांफ्रेस के जरिए अपनी बात रखते हुए कहा कि 2014 लोकसभा चुनाव का प्रबंधन पटरी पर है और किसी तरह की चिंता करने की जरूरत नहीं है.

मोदी को इजाज़त न देने के ख़िलाफ़ भाजपा का धरना

संपत ने निराशा जाहिर करते हुए कहा, "चुनाव आयोग के खिलाफ तीखे बयान दिए जा रहे हैं. हम फिर से आप सबको आश्वस्त करना चाहते हैं कि चुनाव आयोग सख्तीपूर्वक निष्पक्ष तरीके से काम कर रहा है."

निष्पक्ष चुनाव

बनारस में बेनियाबाग़ में नरेंद्र मोदी को गुरुवार को जनसभा करने की अनुमति नहीं मिलने पर काफी विवाद खड़ा हो गया. नरेंद्र मोदी ने चुनाव आयोग पर पक्षपातपूर्ण तरीके से काम करने का आरोप लगाया था.

मोदी ने उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, "मैं बहुत ज़िम्मेदारी के साथ चुनाव आयोग पर पक्षपात का आरोप लगा रहा हूं. चुनाव आयोग निष्पक्ष नहीं है."

इमेज कॉपीरइट AP

मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस संपत ने कहा कि उन्हें बेहद आश्चर्य और निराशा हो रही है कि चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर एक राष्ट्रीय स्तर की पार्टी की ओर से सवाल उठाए जा रहे हैं.

उन्होंने ये भी कहा, "स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव हो, इसके लिए हमने कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी. चुनाव आयोग ने निष्पक्षता और तटस्थता के साथ अपनी जिम्मेदारियों को पूरा किया है."

नरेन्द्र मोदी की पाँच दुधारी तलवारें

वीसी संपत ने आगे कहा, "हम किसी राजनीतिक दल या संस्था से नहीं डरते."

सुरक्षा का मसला

दिल्ली में बुलाए गए प्रेस कांफ्रेस में चुनाव आयोग ने राजनीतिक पार्टियों से गुजारिश की कि वे आयोग का जिक्र करते हुए ज्यादा परिपक्वता का परिचय दें.

इमेज कॉपीरइट Reuters

चुनाव आयोग प्रमुख ने कहा, "हम रैली की अनुमति देने में असमर्थ थे लेकिन इसे विवाद का विषय बना दिया गया. जब भी सुरक्षा का मुद्दा उठता है, चुनाव आयोग स्थानीय प्रशासन के सुझावों के हिसाब से अपने कदम उठाती है."

वीएस संपत नए मुख्य चुनाव आयुक्त

मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस संपत ने कहा, "हम ये आश्वासन देना चाहते हैं कि चुनाव आयोग पूरी दृढता से और निष्पक्ष तरीके से काम कर रहा है."

चुनाव आयोग की ओर से बनारस में रैली की आज्ञा नहीं दिए जाने के बाद भाजपा के कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को दिल्ली और बनारस में धरना दिया.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार