हार के पीछे सपा और कांग्रेस की मिलीभगत: मायावती

मायावती इमेज कॉपीरइट PTI

बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि आम चुनावों में एक भी सीट न मिलने के बावजूद उनकी पार्टी का जनाधार बरकरार है, हालांकि पार्टी को कुछ वर्गों के वोट नहीं मिले.

उन्होंने अपनी पार्टी की हार का कारण भाजपा नेता अमित शाह के भड़काऊ बयानों को भी बताया है.

उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में से 71 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की है जबकि दो पर उसके सहयोगी अपना दल के उम्मीदवार जीते हैं. राज्य में कांग्रेस को दो और समाजवादी पार्टी को पांच सीटें मिलीं.

मायावती ने कहा कि भाजपा नेता अमित शाह के भड़काऊ भाषणों का भी उनकी पार्टी के प्रदर्शन पर असर हुआ.

लखनऊ में प्रेस वार्ता में मायावती ने कहा कि दलित वोट अभी भी उनके साथ ही है. हालांकि माया ने ये ज़रूर कहा कि इस बार उन्हें सवर्ण और मुस्लिम वोट नहीं मिला.

मायावती ने यह भी कहा कि पिछले चुनाव के मुक़ाबले यूपी में उनकी पार्टी के वोट बढ़े हैं.

'ज़्यादा वोट मिले'

मायावती ने कहा, "इस बार हमें उत्तर प्रदेश में लगभग एक करोड़ 60 लाख वोट प्राप्त हुए हैं. हमें पिछली बार से लगभग नौ लाख वोट ज़्यादा प्राप्त हुए हैं. इस बार हमने पूरे देश में लगभग 2 करोड़ 30 लाख वोट हासिल कर तीसरा सबसे ज़्यादा वोट प्रतिशत हासिल किया है."

मायावती ने कहा, "भले ही इस बार के लोकसभा चुनावों में हमारी पार्टी को एक भी सीट क्यों न मिली है. लेकिन ये बात स्पष्ट है कि पूरे देश में हमारी पार्टी का जनाधार बरक़रार है."

सपा और कांग्रेस पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए मायावती ने कहा, "जहां तक कांग्रेस व समाजवादी पार्टी का सवाल है, इनके बारे में ये बात किसी से छिपी नहीं है कि इस बार भी रायबरेली और अमेठी सीट पर कांग्रेस के उम्मीदवार के ख़िलाफ़ सपा ने अपना उम्मीदवार खड़ा नहीं किया था."

माया ने कहा, "जिन पांच लोकसभा सीटों पर सपा चुनाव जीती है उनमें से तीन पर कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी खड़ा नहीं किया था. बाक़ी दो सीटों में एक फ़िरोज़ाबाद में कांग्रेस के प्रत्याशी को क़रीब सात हज़ार जबकि आज़मगढ़ से कांग्रेस प्रत्याशी को क़रीब सत्रह हज़ार वोट ही मिले. तब जाकर सपा अपने परिवार की पांचों सीटों को जीत पाई."

उन्होंने कहा है कि लोकसभा चुनावों में यूपी की 58 फ़ीसदी जनता ने भारतीय जनता पार्टी को नापसंद किया है.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार