थाईलैंडः सेना ने पूर्व पीएम यिंगलक को हिरासत में लिया

  • 23 मई 2014
यिंगलक चिनवाट इमेज कॉपीरइट Getty

थाईलैंड की पूर्व प्रधानमंत्री यिंगलक चिनवाट और उनके परिवार के कई सदस्यों को सैन्य सरकार ने हिरासत में ले लिया है.

यिंगलक और अपदस्थ सरकार के कई राजनेताओं को बैंकॉक के सैन्य आधार शिविर में आने को कहा गया था.

यिंगलक को कई घंटों तक वहां रखा गया और वहां से किसी अज्ञात स्थान को ले जाया गया.

सेना के प्रमुख जनरल प्रायुत चान-ओचा प्रमुख अधिकारियों से मिले और कहा कि किसी भी चुनाव से पहले हर हालत में सुधारों को लागू होना चाहिए.

जनरल प्रायुत ने शुक्रवार को आर्मी क्लब में राज्य के प्रबंधकों, व्यावसायिक नेताओं और सरकारी अधिकारियों को बुलाया.

थाईलैंड की सेना के सबसे वरिष्ठ छह अधिकारियों को सरकार चलाने के लिए नियुक्त किया गया है. इसके साथ ही स्थानीय प्रशासन की निगरानी की ज़िम्मेदारी प्रांतीय कमांडरों के हवाले की गई है.

संविधान निलंबित

इमेज कॉपीरइट Reuters

बैंकॉक में मौजूद बीबीसी संवाददाता ने बताया कि पहले के तख़्तापलट की अपेक्षा इस बार नागरिक प्रशासन में तुरंत वापस आने का कोई वादा नहीं किया जा रहा है.

अधिकारियों की बैठक में जनरल प्रायुत ने कहा, ''मैं चाहता हूं कि सभी सरकारी अधिकारी देश को व्यवस्थित करने में मदद करें. चुनाव से पहले हमें हर हालत में आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक सुधारों को अंजाम दे देना चाहिए. यदि स्थिति शांतिपूर्ण रहती है तो हम जनता को सत्ता वापस करने के लिए तैयार हैं.''

इसी महीने यिंगलक को प्रधानमंत्री पद से हटाया गया था. तख़्तापलट के बाद कार्यकारी प्रधानमंत्री निवाथामरोंग बूंनसोंगफैसन और यिंगलक समेत अन्य 100 राजनेताओं को सैन्य शिविर में रिपोर्ट करने को कहा गया था.

यह अभी स्पष्ट नहीं है कि जनरल प्रायुत ने इनमें से किसी से मुलाकात की थी या नहीं.

इस तरह की ख़बरें हैं कि तख़्तापलट के कारणों के बारे में जानकारी देने के लिए जनरल प्रायुत थाईलैंड के राजा भूमिबोल अदुलियादेज से मुलाकात करने वाले थे लेकिन इसकी अभी पुष्टि नहीं हुई है.

गुरुवार को सेना ने यह कहते हुए संविधान को निलंबित कर दिया था और प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगाने के साथ राजनेताओं को हिरासत में ले लिया था कि महीनों से चल रहे उथलपुथल में ऐसा आदेश देना ज़रूरी हो गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार