'आतंकवाद के साथ-साथ कश्मीर का मसला भी उठा'

इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के बीच हुई मुलाक़ात में आतंकवाद के साथ-साथ कश्मीर का मुद्दा भी उठा था.

हालांकि दोनों ने आपसी संबंधों को मज़बूत करने पर सहमति जताई है और विदेश सचिव स्तर की वार्ता जल्द होने की उम्मीद है.

इस बातचीत के बारे में जानकारी देते हुए भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, "हमारे प्रधानमंत्री ने साफ़ शब्दों में कहा है कि बम धमाकों की आवाज़ में बातचीत की आवाज़ दब जाती है. तो ये धमाके बंद होने चाहिए, तभी हम एकदूसरे को सुन पाएंगे."

सुषमा ने कहा है कि भारत सरकार पाकिस्तान सहित अपने सभी पड़ोसी देशों के साथ आपसी संबंध को बेहतर बनाने को इच्छुक है.

बेहतर संबंध बनाने की कोशिश

दूसरी ओर, मोदी और शरीफ़ की वार्ता के बारे में शरीफ़ के सहयोगी सरताज अज़ीज़ ने इस्लामाबाद में प्रेस कांफ्रेंस कर जानकारी दी.

अज़ीज़ ने कहा, "दोनों देशों के प्रधानमंत्री सभी द्वपक्षीय मुद्दों पर बातचीत के लिए तैयार हुए हैं. इसमें आतंकवाद और कश्मीर का मुद्दा शामिल है. इसके अलावा हमने लाहौर घोषणा पत्र के मुताबिक़ बातचीत को आगे बढ़ाने का प्रस्ताव भी रखा है."

अज़ीज़ के मुताबिक़ भारतीय प्रधानमंत्री ने सभी विवादों के हल को बातचीत के जरिए सुलझानेमें दिलचस्पी दिखाई है.

भारत की ओर से 26 नवंबर को मुंबई पर हुए हमले के आरोपियों के बारे में पूछताछ के बारे में जानकारी देते हुए अज़ीज़ ने कहा कि उसमें कोई नयी बात नहीं है. वह पहले की भारत सरकार भी करती रही थी और हमने भारतीय प्रधानमंत्री को बताया कि हमारे यहां उन लोगों पर क़ानूनी प्रक्रिया चल रही है और उसके मुताबिक़ ही कार्रवाई होगी.

तरक़्क़ी का रास्ता

इमेज कॉपीरइट AFP

हालांकि अज़ीज़ ने ये भी कहा है कि मोदी और शरीफ़ की मुलाक़ात उम्मीद से काफी बेहतर रही है. उन्होंने ये भी उम्मीद जताई है कि लाहौर समझौता वाजपेयी सरकार के समय शुरू हुआ था तो भारतीय जनता पार्टी की सरकार इसे लागू करने में दिलचस्पी दिखाएगी.

उन्होंने साथ ही कहा कि यह दौरा कश्मीर के हुर्रियत नेताओं से मिलने का सही वक़्त नहीं था.

पाकिस्तान ने उम्मीद जताई है कि सितंबर तक दोनों देशों के बीच आपसी बातचीत का दौर शुरू हो जाएगा.

अज़ीज़ ने कहा, "मनमोहन सरकार के पास बहुमत नहीं था, तो वो हमेशा कहते थे कि वो फ़ैसला नहीं ले सकते. लेकिन नरेंद्र मोदी के पास बहुमत है तो उन्हें फ़ैसले लेने में आसानी होगी. क्योंकि हम भी मानते हैं कि शांति होगी तभी हमारी तरक़्क़ी होगी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार