2013-14 में भारत की आर्थिक विकास दर 4.7 फ़ीसदी

भारत की आर्थिक विकास दर इमेज कॉपीरइट AFP

2013-14 के दौरान भारत की आर्थिक विकास दर 4.7 फ़ीसदी और वित्तीय वर्ष की चौथी तिमाही में 4.6 फ़ीसदी रही.

मुख्य रूप से विनिर्माण क्षेत्र और खनन उत्पादन में गिरावट के कारण आर्थिक विकास दर कम रही है.

देश की अर्थव्यवस्था की विकास दर 2012-13 के दौरान 4.5 फ़ीसदी रही. जो कि पिछले एक दशक की सबसे कम विकास दर रही है.

2013-14 में हुआ ये विकास दर केंद्रीय सांख्यिकी विभाग के आकलन 4.9 फ़ीसदी से कम है. केंद्रीय सांख्यिकी विभाग की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक़ 2012-13 के चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में विकास दर 4.4 फ़ीसदी रही थी.

गिरावट

विनिर्माण क्षेत्र में एक साल पहले हुए तीन फ़ीसदी की वृद्धि की तुलना में चौथी तिमाही में 1.4 फ़ीसदी की गिरावट आई है. वहीं 2012-13 में हुए 1.1 फ़ीसदी की वृद्धि की तुलना में ये 0.7 फ़ीसदी तक सिमट गया है.

खनन और उत्खनन क्षेत्र में जनवरी से मार्च की तिमाही में 2012-13 की इसी अवधि में हुए विकास की तुलना में इस साल यह दर 4.8 फ़ीसदी की गिरावट के साथ 0.4 फ़ीसदी पर सीमित हो गयी है.

वहीं वित्तीय वर्ष 2013-14 के दौरान इस क्षेत्र का कुल उत्पादन 1.4 फ़ीसदी पर सिमट कर रह गया है इसमें 2012-13 की तुलना में 2.2 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गयी है.

2013-14 के दौरान कृषि क्षेत्र में पिछले वित्तीय वर्ष में हुए 1.4 फ़ीसदी की तुलना में 4.7 फ़ीसदी की वृद्धि हुई है.

प्रति व्यक्ति आय में 2012-13 के दौरान 2.1 फ़ीसदी की वृद्धि की तुलना में 2013-14 के दौरान 2.7 फ़ीसदी रहने का अनुमान है .

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार