जेल भेजे गए पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा

  • 3 जून 2014
झारखंड में बिजली अधिकारी को बंधक बनाया भाजपा कार्यकर्ताओं ने इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA BBC

झारखंड की हज़ारीबाग पुलिस ने पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा समेत 53 लोगों को गिरफ्तार किया है.

गिरफ्तारी के बाद सभी को हज़ारीबाग़ के व्यवहार न्यायालय में पेश किया गया. बाद में वहां से उन्हें 14 दिनों के हिरासत में जेल भेज दिया गया है.

सभी गिरफ्तार लोग यशवंत सिन्हा के समर्थक और भाजपा के कार्यकर्ता बताए गए हैं. गिरफ्तार 53 लोगों में चार महिलाएं भी शामिल हैं.

हज़ारीबाग़ के पुलिस अधीक्षक मनोज कौशिक ने 53 लोगों के जेल भेजे जाने की पुष्टि की है.

यशवंत सिन्हा की अगुआई

यशवंत सिन्हा और भाजपा कार्यकर्ताओं पर आरोप है कि हज़ारीबाग़ में बिजली संकट को लेकर सोमवार को किए गए आंदोलन के दौरान उन्होंने बिजली विभाग के महाप्रबंधक धनेश झा के साथ बदसलूकी की थी.

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA BBC

ये भी आरोप है कि उन्होंने सरकारी काम में बाधा पहुंचाई और साथ ही बिजली अधिकारी को बंधक भी बना लिया. बिजली अधिकारी को मौके पर पहुंचे प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों ने मुक्त कराया.

पुलिस के मुताबिक इस आंदोलन का नेतृत्व यशवंत सिन्हा कर रहे थे. लिहाज़ा उन्हें भी गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस अधीक्षक के मुताबिक इस बाबत महाप्रबंधक ने पुलिस में एफआईआर दर्ज करवाई थी.

इधर बीजेपी कार्यकर्ता उमा पाठक समेत कुछ अन्य महिलाओं ने सदर थाने में ही बिजली विभाग के महाप्रबंधक धनेश झा के खिलाफ़ एक प्राथमिकी दर्ज कराई है.

इस प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि वे बिजली की समस्या को लेकर शांतिपूर्ण तरीके से धरना दे रही थीं. तब वहां पर बिजली अधिकारियों ने उनके साथ अभद्रता की. उनके साथ धक्का मुक्की भी की गई.

पुलिस का कहना है कि महिलाओं द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी में जांच शुरू कर दी गई है.

आरोप

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA

बिजली अधिकारी ने आरोप लगाया है कि यशवंत सिन्हा के बार-बार उकसाने के कारण ही धरने पर बैठे भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया. कुछ देर के लिए अधिकारी को रस्सी से बांधा भी गया.

सोमवार की शाम को ही यशवंत सिन्हा समेत सौ से अधिक लोगों को हिरासत में ले लिया गया था. तब सभी लोगों ने निजी मुचलके के आधार पर जमानत लेने और बांड भरने से इंकार कर दिया था.

इधर मंगलवार को सिन्हा समेत अन्य नेताओं को हिरासत में लिए जाने का शहर में भारी विरोध किया गया.

भाजपा के सैकड़ों कार्यकर्ता इस बात पर अड़े थे कि सभी लोगों को पुलिस बिना शर्त रिहा करे या जेल भेजे. भाजपा कार्यकर्ताओं का कहना था कि वे लोग जनहित में आंदोलन कर रहे हैं.

इसके बाद पुलिस ने आगे की कार्रवाई करते हुए 53 लोगों को गिरफ्तार किया. सभी लोगों को हज़ारीबाग़ न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 दिनों के न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है.

सड़क जाम

इमेज कॉपीरइट NIRAJ SINHA BBC

यशवंत सिन्हा को गिरफ्तार किए जाने के बाद भाजपा के का र्यकर्ताओं, समर्थकों ने हजारीबाग-पटना राष्ट्रीय उच्च पथ को जाम कर दिया. वे काफी देर तक नारेबाज़ी भी करते रहे.

इस बीच पुलिस अधीक्षक ने बताया है कि सड़क जाम हटा लिया गया है.

स्थित नियंत्रण में है. शहर के सभी जगहों पर पुलिस की चौकसी बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं.

इसके अलावा जगह-जगह अतिरिक्त पुलिस की तैनाती भी की गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार