‘ख़ामियाज़ा भुगत रहा है सलमान’

साल 2002 के दुर्घटना मामले में नए सिरे से सुनवाई का सामना कर रहे सलमान ख़ान के पिता सलीम ख़ान मानते हैं कि एक्सीडेंट के इस मामले को बेवजह तूल दिया गया है.

सलीम ख़ान कहते हैं, ‘‘अगर सलमान सेलेब्रिटी ना होता तो ना मीडिया को दिलचस्पी होती ना ही पुलिस को और ना ही जनता को. रोज़ मुंबई में सड़क हादसे होते हैं. इससे कहीं भयानक होते हैं. अभी मुंडे साहब की मौत हुई है. ड्राइवर को ज़मानत भी मिल गई. सलमान के ऊपर तो धाराएं लगा रखी हैं.’’

सलीम ख़ान मानते हैं कि जब रोज़ भारत में इतने हादसे होते हैं. इस मामले को भी उसी तरह से देखा जाना चाहिए.

इस दुर्घटना को हिट एंड रन का मामला बनाए जाने से भी सलीम ख़ान को शिकायत है.

सलीम कहते हैं, "मैं हमेशा पढ़ता हूं हिट एंड रन. इसका मतलब है कि मारा और भाग गया. जबकि उस दिन पुलिस ख़ुद सलमान के साथ आई थी. गाड़ी वहीं पर फंसी थी. बाद में सलमान का बयान दर्ज किया गया था. मेरी समझ में नहीं आता कि ये हिट एंड रन कैसे हो गया.’’

सलीम इस मामले में मीडिया की भूमिका पर सवाल खड़ा करते हुए कहते हैं कि सिर्फ़ इसलिए कि चीज़ें कुछ सनसनीख़ेज़ हो जाएं, कुछ भी लिख देना कहां तक जायज़ है.

आख़िरकार मीडिया को भी ज़िम्मेदार होना चाहिए. सलीम मानते हैं कि मी़डिया इस मामले में सलमान को अपराधी की तरह पेश करता है.

मामला

इमेज कॉपीरइट afp
Image caption सलमान ख़ान की कार से हुई दुर्घटना के मामले की सुनवाई नए सिरे से मुंबई में चल रही है.

सलमान ख़ान पर आरोप है कि साल 2002 में उनकी गाड़ी के नीचे आकर फुटपाथ पर सो रहे एक व्यक्ति की मौत हो गई थी लेकिन सलमान इस आरोप से इनकार करते रहे हैं.

अधिकारियों के मुताबिक 28 सितंबर 2002 को देर रात मुंबई के बांद्रा इलाके में सलमान ख़ान की गाड़ी अमेरिकन एक्सप्रेस बेकरी में घुस गई.

उस वक्त वहां फुटपाथ पर पांच लोग सो रहे थे जिनमें से 38 साल के नूर उल्लाह ख़ान की मृत्यु हो गई और तीन अन्य लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. एक अन्य व्यक्ति को मामूली चोट आई.

सलमान पर शुरुआत में ग़ैर-इरादतन हत्या का आरोप लगा लेकिन उन्होंने इसे अदालत में चुनौती दी जिसके बाद आरोप घट कर 'लापरवाही की वजह से हत्या' में तब्दील हो गया. दूसरे आरोप में दो साल की जेल की सज़ा का प्रावधान है.

लेकिन मार्च 2011 में अभियोजन पक्ष ने ग़ैर-इरादतन हत्या का आरोप दोबारा लगाने की मांग की. इस साल फरवरी में अदालत ने आदेश दिया कि सलमान पर ग़ैर-इरादतन हत्या के आरोप में मुकदमा चलना चाहिए, जिसके बाद जुलाई में उन पर यह अभियोग लगाया गया.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार