तृणमूल सांसद के 'रेप से जुड़े बयान' पर बवाल

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

तृणमूल कांग्रेस के सांसद तपस पाल के एक बयान पर विवाद हो गया है.

तपस पाल ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा था, "अगर माकपा के लोग हमारे कार्यकर्ताओं को धमकाते हैं या मारते हैं तो हम उन्हें नहीं छोड़ेंगे."

इसके आगे का बयान विवादास्पद हुआ है जिसमें वह ये कहते सुनाई देते हैं कि 'हम अपने लड़कों को भेजेंगे कि वे जाकर माकपा की महिला सदस्यों का रेप करें.'

कोलकाता में बीबीसी संवाददाता अमिताभ भट्टासाली के अनुसार ये वीडियो एक महीने पुराना है.

हालांकि अब तपस पाल ने इन आरोपों का खंडन किया है कि उन्होंने बलात्कार या 'रेप' शब्द का इस्तेमाल किया था.

टीवी चैनल सीएनएन-आईबीएन से बात करते हुए तपस पाल ने कहा, ‘‘ मैंने कभी भी रेप शब्द का इस्तेमाल नहीं किया. मैंने रेड (यानी छापे) की बात कही थी. मैं किसी भी जांच के लिए तैयार हूं. मुझ पर गलत आरोप लगाए जा रहे हैं.’’

किनारा किया

तृणमूल कांग्रेस ने खुद को इस विवाद से दूर कर लिया है.

पार्टी नेता डेरेक ओ ब्रायन ने इस मामले में ट्वीट करते हुए कहा है कि तपस पाल के बयान असंवेदनशील हैं और हम किसी भी तरह से इस बयान का समर्थन नहीं करते हैं.

राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा, "मुझे ये देखना होगा कि उन्होंने ये बात कहाँ कही. अगर उन्होंने ऐसा कुछ कहा है तो पार्टी इसका समर्थन नहीं करती है."

विपक्षी दलों ने इस मामले में तृणमूल और पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी की कड़ी आलोचना की है. सीपीएम ने कहा कि इस मामले में वो राष्ट्रीय महिला आयोग और लोकसभा स्पीकर का रुख करेगी.

पार्टी नेता बृंदा करात ने कहा, "ये बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. लोकसभा स्पीकर को ख़ुद ही संज्ञान लेना चाहिए. राज्य की मुख्यमंत्री इन मामलों में इतना आगे रहती हैं. वह चुप क्यों हैं."

कांग्रेस पार्टी ने भी इस मामले में तृणमूल को आड़े हाथों लिया है और कहा है कि वो इस तरह के बयानों की कड़ी निंदा करती है.

बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार