इराक़: 'नर्सों का ठिकाना बदला जा रहा है'

इराक़ी शिया लड़ाके इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अक़बरुद्दीन ने मीडिया से कहा है कि इराक़ में फंसी भारतीय नर्सों का ठिकाना बदला जा रहा है.

उन्होंने कहा, "तिकरित में जो नर्सें थीं उन्हें कुछ समय पहले दूसरी जगह ले जाया गया है. वे अपनी सुरक्षा को देखते हुए ही वहाँ से हटने को राज़ी हुई हैं. उनको कोई नुक़सान नहीं पहुँचा है."

जब उनसे ये पूछा गया कि क्या नर्सें अपनी मर्ज़ी से वहाँ से गई हैं या उन्हें इस्लामिक स्टेट इन इराक़ ऐंड अल-शाम के चरमपंथी ले गए हैं तो अकबरुद्दीन का कहना था कि 'संघर्ष वाले इलाक़े में कोई भी अपनी मर्ज़ी से एक जगह से दूसरी जगह नहीं जाता'.

उन्होंने कहा, "मैं इराक़ में फंसी भारतीय नर्सों की निश्चित संख्या नहीं बता सकता."

अकबरुद्दीन ने बताया कि भारतीय अधिकारी तिकरित शहर से हटाई गईं नर्सों के संपर्क में हैं.

प्रवक्ता के अनुसार इराक़ में 25 भारतीय अधिकारियों को संघर्ष वाले क्षेत्र में तैनात किया गया है.

उनका कहना था कि मोसूल में जो भारतीय बंधक बनाए गए थे उनके बारे में पता चला है कि उन्हें भी कोई नुक़सान नहीं पहुँचा है.

उन्होंने बताया कि इराक़ में कांच टूटने की एक घटना में कुछ नर्सों को मामूली चोटें पहुँची हैं लेकिन कोई भी नर्स गंभीर रूप से घायल नहीं हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार