बजट: गिरकर बंद हुआ बाज़ार

  • 10 जुलाई 2014
सेंसेक्स इमेज कॉपीरइट Getty

मोदी सरकार का पहला बजट पेश किए जाने के बाद शेयर बाज़ार गिरकर बंद हुआ है.

बुधवार के मुक़ाबले शेयर बाज़ार 72.06 अंक गिरकर 25372.75 पर बंद हुआ. जबकि निफ्टी 17.25 अंकों की गिरावट के साथ 7,567.75 के स्तर पर बंद हुआ.

इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली के बजट भाषण शुरू करने पर बाज़ार में गिरावट आई थी लेकिन कुछ ही देर बाद बाज़ार संभल गया. हालांकि बुधवार के 25444.81 अंकों के मुक़ाबले बाज़ार गिरकर बंद हुआ.

वैसे बजट पेश किए जाने के दौरान एक समय सेंसेक्स 445 अंक की तेजी के साथ 25,890 के स्तर तक पहुँच गया था.

शेयर बाज़ार में घोषणाओं के आधार पर बढ़त और गिरावट का रुझान दिखा.

वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में बीमा और रक्षा क्षेत्र को छोड़कर किसी बड़े आर्थिक सुधार की घोषणा नहीं की है जिसकी उम्मीद निवेशक कर रहे थे.

सेंसेक्स का हाल जानने के लिए क्लिक करें

जानकारों के मुताबिक सरकार ने पुरानी तारीख़ से कर वसूलने (रेट्रोस्पेक्टिव टैक्स) के फ़ैसले में कोई बदलाव नहीं करने का फैसला किया है जिसकी वजह से विदेशी निवेशकों में निराशा दिखी.

निफ्टी का हाल जानने के लिए क्लिक करें

बाजार की चाल

  • बजट भाषण शुरू होते ही सेंसेक्स-निफ्टी में आधे फीसदी से ज़्यादा की मजबूती के साथ कारोबार हो रहा था.
  • वित्त मंत्री ने रक्षा एवं बीमा क्षेत्र में एफडीआई सीमा 49 फ़ीसदी तक करने की घोषणा की जिससे बाजार में जोश आया.
    इमेज कॉपीरइट Reuters
  • सरकार ने सरकारी बैंकों में बड़ा हिस्सा रखने की बात कही जिससे बैंक शेयरों में डेढ़ फ़ीसदी से ज्यादा की गिरावट देखी जा रही है.
  • हालांकि इसी दौरान सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में तक़रीबन एक फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली.
  • गुरुवार को रुपया भी डॉलर के मुकाबले 12 पैसे की मजबूती के साथ खुला था लेकिन बजट के दौरान रुपये में थोड़ी कमज़ोरी देखने को मिली
  • बाज़ार की नजर बजट में वित्तीय घाटे को काबू करने से जुड़ी घोषणाओं पर थी. वित्त मंत्री ने संकेत दिया कि अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए सख्त क़दम उठाने से सरकार पीछे नहीं हटेगी.
  • बजट पेश होने से पहले बाजार ने कमज़ोर शुरुआत की थी और बाजार में सुस्ती और दबाव नज़र आया.
  • रेल बजट पेश होने के बाद बाजार में 500 अंक से ज़्यादा की गिरावट देखी गई थी और बजट के तीसरे दिन बाद भी रेलवे से जुड़े शेयरों में गिरावट का रुझान देखा गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार