बजट की वे आठ बातें, जो मोदी को भा गईं

  • 10 जुलाई 2014
नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली की ओर से पेश किए गए आम बजट पर एक बयान जारी करके प्रतिक्रिया दी है.

  • यह बजट भारत को विकास की नई ऊंचाइयों तक ले जाने वाला है. गरीबों और समाज के दबे कुचले तबकों के लिए यह आशा की एक किरण है.
  • आम बजट में 'जनभागीदारी' और 'जनशक्ति' को बढ़ावा देने वाले कई उपाय पेश किए गए. यह नई तकनीक की मदद से भारत को एक कुशल और डिजिटल इंडिया में बदल देगा.
  • बजट से जाहिर है कि हमारी सरकार ने अंतिम दशक में सामने आने वाली चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए सही दिशा में सही कदम उठाया है.
  • मौजूदा बजट एक ऐसी संजीवनी साबित होने वाला है जो भारत की मरणासन्न अर्थव्यवस्था में जान फूंकने का काम करेगी. साथ ही यह कतार के आखिरी व्यक्ति के लिए नई सुबह है.
  • बजट में देश के उन दूर-दराज के इलाकों पर भी ध्यान दिया गया है जो अब तक अविकसित रह गए हैं. नया आम बजट और रेलवे बजट देश को संकट से उबारने की दिशा में सही कदम है.
  • सरकार 'सबका साथ, सबका विकास' मंत्र से प्रेरित होकर गरीबों, नव मध्य वर्ग और मध्य वर्ग तक हर संभव सहायता पहुंचाने को कटिबद्ध है. इस प्रतिबद्धता को साबित करने में आम बजट सहायक है.
  • बजट में किसानों की बेहतरी के लिए 'कृषि सिंचाई योजना' जैसे उपाय लाए गए हैं. यह योजना ‘प्रति बूंद, अधिक फसल’ के लक्ष्य को पूरा करेगी. यही नहीं, बजट में गंगा की सफाई से जुड़ा बेहद महत्वपूर्ण प्रस्ताव भी है.
  • लगातार बढ़ रही कीमतों से परेशान गृहिणियों के लिए मौजूदा बजट नई उम्मीदें लेकर आया है. इसमें महिला सशक्तिकरण और बालिका शिक्षा को खास जगह दी गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार