रेलवे टिकटों की ‘कैश ऑन डिलिवरी’ जल्द

इमेज कॉपीरइट Reuters

रेलवे रिज़र्वेशन वेबसाइट आईआरसीटीसी का कहना है कि देश के चुनिंदा शहरों में इस साल के अंत तक रेलवे टिकटों की ‘कैश ऑन डिलिवरी’ शुरू हो जाएगी.

इस सेवा के तहत ऑनलाइन बुक किया गया टिकट आपके घर तक पहुंचाया जाएगा और उसका भुगतान आप टिकट मिलते समय कर सकेंगे.

आईआरसीटीसी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक एमपी मल्ल ने बीबीसी हिन्दी के फेसबुक चैट पर कहा है कि लोगों को अगर ये सेवा पसंद आई तो इसे दूसरे शहरों तक बढ़ाया जाएगा.

(फेसबुक पर पूरा चैट पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए)

फ़ेसबुक चैट पर बीबीसी हिन्दी के पाठकों के सवालों के जवाब में एमपी मल्ल ने कहा, “तत्काल टिकटों की बुकिंग खुलने के दौरान लोगों को आईआरसीटीसी वेबसाइट पर दिक्कतों का सामना करना पड़ता था, लेकिन अब इस समस्या को दूर कर दिया गया है.”

उन्होंने कहा, “आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर पहले दो हज़ार टिकट प्रति मिनट की बुकिंग की क्षमता थी, जिसे बढ़ाकर अब 7,200 टिकट प्रति मिनट कर दिया गया है.”

टिकटों की कालाबाज़ारी

इमेज कॉपीरइट IRCTC.CO.IN

एमपी मल्ल के अनुसार आईआरसीटीसी डॉट कॉम पर प्रतिदिन क़रीब 25 लाख लोग आते हैं.

उन्होंने बताया कि हर दिन क़रीब पांच लाख लोग टिकट बुक कराने आते हैं, जबकि सवा लाख लोग टिकटें रद्द कराने के लिए वेबसाइट पर लॉगिन करते हैं.

टिकटों की कालाबाज़ारी के सवाल पर एमपी मल्ल ने कहा, “एजेंट सुबह आठ बजे से 12 बजे तक टिकट बुक नहीं करा सकते हैं. हर एजेंट की एक आईडी होती है और वो अपनी आईडी से एक ट्रेन से तत्काल का एक ही टिकट निकाल सकता है. इसमें कालाबाज़ारी की गुंजाइश कम है.”

मोबाइल पर टिकट बुकिंग

मल्ल ने बताया कि मोबाइल पर आईआरसीटीसी की वेबसाइट का प्रयोग करने वालों के लिए अच्छी ख़बर ये है कि आईआरसीटीसी टिकट बुकिंग के लिए एंड्रॉएड और अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम के ऐप्स पर भी काम कर रही है.

फिलहाल ये केवल विंडोज़ पर उपलब्ध है. साथ ही एसएमएस के ज़रिए भी टिकट बुक कराने की व्यवस्था चालू है.

कंफर्म टिकट नहीं मिलने की शिकायतों पर एमपी मल्ल ने कहा कि मांग और आपूर्ति के बीच का अंतर अधिकतर रूटों पर काफ़ी ज़्यादा है, अगर नई ट्रेनें चलाई जाए तो इसे पूरा किया जा सकता है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार