लाउडस्पीकर को लेकर मुरादाबाद के कांठ में तनाव

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption मुरादाबाद के कांठ में पिछले दिनों तनाव पैदा हो गया था.

मंदिर से लाउडस्पीकर उतारने को लेकर उत्‍तर प्रदेश के मुरादाबाद ज़िले के कांठ में माहौल गर्मा गया है. भाजपा के कांठ कूच को लेकर टकराव की स्थिति बनती जा रही है.

कांग्रेस भी कांठ में शनिवार को एक शांति मार्च निकाल रही है.

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने घोषणा की थी कि 26 जुलाई को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सभी सांसद, विधायक और पार्टी के सभी बड़े नेता कांठ जाएंगे.

प्रशासन ने त्योहारों का हवाला देते हुए किसी भी सियासी कार्यक्रम की अनुमति देने से साफ़ मना कर दिया है.

विश्‍व हिंदू परिषद के 'जलाभिषेक' कार्यक्रम और एक मंदिर पर फिर से लाउडस्‍पीकर लगाने की योजना देखते हुए एहतियातन मुरादाबाद और उससे लगे ज़िलों में सुरक्षा कड़ी कर दी है.

मुरादाबाद के एसएसपी धर्मवीर सिंह ने बीबीसी को बताया कि तहसील कांठ में धारा 144 लगी हुई है. उनका कहना था कि इस मुद्दे पर राजनीति हो रही है और किसी भी बाहरी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित है.

विवाद

कांठ इलाक़े के अकबरपुर गांव में मंदिर से लाउडस्पीकर उतारने के बाद पुलिस और स्थनीय लोगों में विवाद हुआ था.

इसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने इस मुद्दे पर महापंचायत की घोषणा की थी, पर प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी.

महापंचायत रोके जाने से नाराज़ लोगों की पुलिस से भिड़ंत हुई थी. इस झड़प में ज़िलाधिकारी की आंख में चोट लगी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार