यहाँ दूध, सब्ज़ी और गैस के लिए है जंग

सहारनपुर

कुछ दिन पहले हुए सांप्रदायिक दंगों के बाद सहारनपुर में कर्फ़्यू के बीच लोग रोज़मर्रा की चीज़ें ख़रीदने के लिए तड़प रहे हैं.

शहर के हक़ीकतनगर चौक के पास सुबह नौ बजे जैसे ही दूध की गाड़ी रुकी तो इलाके के लोगों ने उसे घेर कर 20% ज़्यादा दाम पर सारे पैकेट खरीद लिए.

दिन ईद का, माहौल मुहर्रम का

दिल्ली रोड पर जब सब्ज़ियां ले जाती एक गाड़ी पुलिस चेक-पोस्ट के पास रुकी तो एकाएक जमा हुई भीड़ ने जबरन सारी सब्ज़ियाँ खरीद लीं.

स्थानीय निवासी प्रमोद कुमार ने बताया, "चार दिन पहले गैस का सिलेंडर बुक कराया था, अब वर्षों बाद घर में केरोसीन पर खाना बन रहा है. ये कब तक चलेगा नहीं पता".

बढ़े तनाव के बीच आनन-फ़ानन में सहारनपुर ज़िले में तैनात किए गए सुरक्षा बलों के हाल भी कुछ अलग नहीं हैं.

सहारनपुर: तीन की मौत, 12 लोग गिरफ़्तार

गुमसुम से एक चौकी पर बैठे प्रतापगढ़ के रहने वाले राम अचल शर्मा के भतीजे की शादी बुधवार को है लेकिन उन्हें रविवार को इलाके में तैनाती का आदेश मिल गया.

शहर के एक सुनसान पड़े फ्लाई ओवर पर भीख मांग कर गुज़ारा करने वाले एक व्यक्ति ने कहा, ''कुछ हुआ तो है, लेकिन हमें सिर्फ़ इतना पता है कि पचास पैसे देने वाला भी कोई नहीं है.''

शनिवार को शहर के बीचों-बीच सांप्रदायिक हिंसा में तीन लोगों की मौत हुई थी जबकि 20 अन्य घायल हुए थे.

स्थानीय प्रशासन ने घटना के तुरंत बाद कर्फ़्यू लगा दिया था और 38 लोगों को हिरासत में ले लिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)