मिट्टी में दब गया एक गाँव

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

महाराष्ट्र के पुणे ज़िले के एक आदिवासी गांव में भूस्खलन के बाद मलबे में से दस लोगों को निकाला जा चुका है जबकि इसमें दबकर कम से कम 20 लोगों की मौत हो गई है.

इमेज कॉपीरइट Nitin Lawate

ये हादसा पुणे से लगभग 100 किलोमीटर दूरी पर आंबेगांव तालुका में स्थित मालीण गांव में हुआ. ये गांव 50 मीटर के दायरे में फैला हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

इस गांव में करीब 70 घर बताए जा रहे हैं जिसमें से 50 घर भूस्खलन से प्रभावित हो गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

माना जा रहा है कि अब भी मलबे में 150 से ज्यादा लोग फंसे हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

बुधवार सुबह क़रीब तीन बजे पहाड़ी का एक हिस्सा टूट कर गिर गया था.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

गांव के ज़्यादातर मकान कच्चे थे जिनके कारण गांव वालों को निकलने का मौक़ा नहीं मिल सका.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

एनडीआरएफ की टीम मलबे में फंसे लोगों को निकालने की कोशिश कर रही है.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

ये गांव हज़ारों टन मिट्टी, कीचड़ और पत्थर के मलबे में दब गया है.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

भारी बारिश की वजह से राहतकर्मियों को काफी परेशानी आ रही है.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

घटनास्थल पर भारी मशीनें और एम्बुलेंस भेजी गई हैं.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार मानवरहित दो हवाई जहाज़ और एनडीआरएफ के क़रीब 400 कार्यकर्ता वहां राहत और बचाव के काम में जुटे हैं.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

गांव में एक स्कूल को छोड़कर लगभग सब कुछ या तो बह गया है या मलबे में दबा हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Nitin lawate

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों की मौत को दुखद बताया. गृहमंत्री राजनाथ सिंह घटनास्थल का दौरा करेंगे. राज्य के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने घटनास्थल का दौरा किया है

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार