न्यायपालिका को बदनाम न करें: मुख्य न्यायधीश

सुप्रमी कोर्ट इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के मुख्य न्यायधीश आरएम लोढ़ा ने कहा है कि ऐसा लगता है कि न्यायपालिका को बदनाम करने का अभियान चलाया जा रहा है जिसे फ़ौरन रोका जाना चाहिए क्योंकि इससे लोकतंत्र को भारी क्षति पहुंचेगी.

काटजू ने न्यायपालिका को घेरा, हुआ हंगामा

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, जस्टिस आरएम लोढ़ा के नेतृत्व वाली पीठ ने सोमवार को कहा, ''न्यायपालिका को बदनाम करने के लिए भ्रमित करने वाला अभियान चलाया जा रहा है और ग़लत सूचनाएं फैलाने की लगातार कोशिशें हो रही हैं.''

अदालत ने यह टिप्पणी एक जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान की जिसमें ये कहा गया था कि कर्नाटक हाई कोर्ट के जज जस्टिस केएल मंजुनाथ को पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के मुख्य जज के रूप में प्रस्तावित करने के कोलेजियम के निर्णय को बाध्यकारी न बनाया जाए.

इमेज कॉपीरइट PTI

महत्वपूर्ण है कि रविवार को सेवानिवृत्त जज मार्कंडेय काटजू ने अपने ब्लॉग में इलाहाबाद हाई कोर्ट में आपत्तिजनक छवि वाले एक जज के प्रमोशन के बारे में आरोप लगाए थे.

न्यायपालिका में सुधारों के बारे में क़ानून मंत्री रविशकंर प्रसाद ने लोकसभा में कहा है कि इन सुधारों पर बहस होनी चाहिए और भारत सरकार मूलभूत ढांचे के विकास के बारे में प्रतिबद्ध है पर ज़रूरत एकजुट होकर काम करने की है.

सरकार ने लोकसभा में सोमवार को कोलेजियम व्यवस्था को ख़त्म करने के लिए न्यायिक नियुक्ति आयोग बिल पेश किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार