भोपाल में किन्नर कार्निवाल

इमेज कॉपीरइट jafar multani

सिर पर भुजरिया उठाए हुए किन्नरों की यह तस्वीर भोपाल की है, जहाँ हर साल राखी के दो दिन बाद भुजरिया पर्व मनाया जाता है.

इमेज कॉपीरइट jafar multani

किंवदंती है कि भोपाल में राजा भोज के शासन में जब सूखा और अकाल पड़ा तो ज्योतिषाचार्य ने अकाल से मुक्ति पाने के लिए राजा भोज से किन्नरों को भुजरिया करने का आग्रह करने को कहा, तभी से यह परंपरा भोपाल में चली आ रही है.

इमेज कॉपीरइट jafar multani

भुजरिया की तैयारी राखी से क़रीब 12 दिन पहले से की जाने लगती है. गेहूं के दानों को छोटे-छोटे पात्रों के अंदर मिट्टी में अंकुरित होने के लिए रख दिया जाता है. ये हरे पौधे शांति और समृद्धि का प्रतीक माने जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट jafar multani

भोपाल शहर के बुधवाड़ा किन्नर घराने से यह कारवां शुरू होता है और शहर के तालाब के पास मंदिर तक चलता है. शहर की सड़कों से गुज़रने वाले इस जुलूस में सारंगी और ढोलक की थाप पर मंगल गीतों पर झूमते हुए किन्नरों की टोलियां जब निकलती हैं तो लोग देखते रह जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट jafar multani

परंपरागत शैली के पहनावे के साथ साथ अब आधुनिकता का रंग भी इस पर चढ़ गया है. जहां एक और साड़ी दिखती है वहीं दूसरी तरफ़ पाश्चात्य शैली के ड्रेस को भी तरजीह दी जाने लगी है. फैशन का रंग किन्नरों पर भी साफ़ नज़र आने लगा है.

इमेज कॉपीरइट jafar multani

साल में एक बार होने वाले इस त्योहार पर खुद को आकर्षक दिखाने की होड़ में किन्नर कपड़े और सौंदर्य प्रसाधनों पर हज़ारों रुपए खर्च करते हैं. किन्नरों के आशीर्वाद की मान्यता के चलते लोग भुजरिया लेना शुभ मानते है.

इमेज कॉपीरइट jafar multani

मध्य प्रदेश के अलावा राजस्थान, गुजरात, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र के साथ देश के अन्य हिस्सों से सैकड़ों किन्नर हर साल इस पर्व में शामिल होने के लिए भोपाल पहुंचते हैं. (सभी तस्वीरें: ज़फ़र मुल्तानी)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार